नरेंद्र गिरि डेथ केस में तीसरी गिरफ्तारी, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से क्या सामने आया?

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

प्रयागराज में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के बाद इस मामले में तीसरी गिरफ्तारी हुई है. पुलिस ने बड़े हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी आद्या तिवारी के बेटे संदीप तिवारी को भी गिरफ्तार कर लिया है.

बता दें कि खुदकुशी के लिए उकसाने के मामले में पुलिस आनंद गिरि और आद्या तिवारी को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी थी. बुधवार, 22 सितंबर को आनंद गिरी और आद्या तिवारी को कोर्ट में पेश किया गया. इसके बाद कोर्ट ने दोनों को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

जानकारी के अनुसार महंत नरेंद्र गिरि के शव का 22 सितंबर को करीब 2 घंटे तक पोस्टमॉर्टम चला. 5 डॉक्टरों ने यह पोस्टमॉर्टम किया. शुरुआती पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, 20 सितंबर को 3 बजे से लेके 3:30 बजे के बीच महंत नरेंद्र गिरी की मौत हुई थी, उनकी बॉडी पर किसी तरह के चोट के निशान नहीं मिले हैं. पोस्टमॉर्टम में मौत का कारण फांसी निकला है. उनके पेट में खाना था, उसे जांच के लिए प्रिजर्व किया गया है.

आनंद गिरि को कोर्ट में पेश किए जाने से पहले पुलिस ने उनसे करीब 12 घंटे तक पूछताछ की थी. इसके अलावा पुलिस ने दूसरे आरोपी आद्या तिवारी से भी पूछताछ की थी.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

सूत्रों के मुताबिक,

  • आनंद गिरि को इस मामले में बरामद कथित सुसाइड नोट भी दिखाया गया. पुलिस ने आनंद गिरि से नरेंद्र गिरि की हैंड राइटिंग पहचनवाने की कोशिश भी की.

ADVERTISEMENT

  • पूछताछ में आनंद गिरि बस यही बोला कि महंत जी खुदकुशी नहीं कर सकते, ये मेरे खिलाफ साजिश लग रही है.

  • आनंद गिरि और नरेंद्र गिरि के बीच मठ के उत्तराधिकार को लेकर विवाद पर भी सवाल जवाब हुए, जिसमें आनंद गिरि ने बताया, “महंत जी के कहने के बाद जब तक उन्होंने मुझे माफ नहीं कर दिया, तब तक मैं श्री बड़े हनुमान जी के मंदिर नहीं गया.”

  • ADVERTISEMENT

  • आनंद गिरि ने पूछताछ में कहा, “मेरा महंत जी से कोई विवाद नहीं था, महंत जी मुझे कभी परेशान भी नहीं लगे थे.”

  • आनंद गिरि, आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी से एक साथ मंदिर के चंदे में गड़बड़ को लेकर भी पूछताछ की गई.

  • जानकारी के अनुसार यूपी पुलिस ने हरिद्वार आश्रम से आनंद गिरि के लैपटॉप, फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को कब्जे में लेकर फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है. नरेंद्र गिरि के गनर अजय समेत सुरक्षा में तैनात 4 पुलिसकर्मियों से पुलिस ने पूछताछ की है.

    आपको बता दें कि 22 सितंबर को महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी गद्दी के बगीचे में भू-समाधि दे दी गई.

    नरेंद्र गिरि ने मौत से पहले मोबाइल से बनाया वीडियो? इन तीन पहलुओं की जांच में जुटी पुलिस

      follow whatsapp

      ADVERTISEMENT