यूपी में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़े या घटे? NCRB के नए आंकड़ों से पूरी तस्वीर समझिए

प्रतीकात्मक
प्रतीकात्मकतस्वीर: शैलेंद्र प्रताप सिंह, यूपी तक.

एनसीआरबी (राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो) के वर्ष 2021 की रिपोर्ट जारी होते ही उत्तर प्रदेश में महिला अपराध को लेकर विवाद छिड़ गया है. यूपी सरकार का दावा है कि महिलाओं के खिलाफ अपराध प्रदेश में पहले के मुकाबले कम हुए हैं. वहीं विपक्ष का कहना है कि अपराध बढ़े हैं. प्रदेश सरकार का ये दावा है कि प्रति एक लाख जनसंख्या के आधार पर क्राइम रेट 154.5 है जो देश में दूसरे राज्यों के मुकाबले काफी कम है. यानी अपराध के मामले में यूपी 23वें नंबर पर है. वहीं महिलाओं के खिलाफ कुल अपराध में यूपी 16वें स्थान पर है.

अब सवाल ये उठता है कि सरकार के अनुसार यदि यूपी में अपराध कम हुए हैं तो सपा प्रमुख अखिलेश यादव ये क्यों कह रहे हैं कि अपराध बढ़े हैं. आइए इसे समझते हैं एनसीआरबी के आंकड़ों से...
अहम बिंदु

एनसीआरबी के ताजा आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2021 में यूपी में महिलाओं के खिलाफ दूसरे राज्यों की तुलना में सबसे अधिक 56083 मामले सामने आए हैं. ये आंकड़े साल 2019 के (59853 मामलों) के मुकाबले भले ही कम हों पर साल 2020 के (49385 मामलों) के मुकाबले ज्यादा हैं. पिछले 3 साल की बात करें तो एनसीआरबी के आंकड़े कहते हैं कि तीनों साल (2019,20, 21) में यूपी महिलाओं के खिलाफ अपराध में नंबर वन पर है. वहीं यदि क्राइम रेट के हिसाब से इसे देखें तो यूपी में महिलाओं के खिलाफ क्राइम रेट 50.5 है. क्राइम रेट में सबसे ऊपर असम 168.3 और सबसे नीचे नागालैंड 5.1 है.

योगी सरकार का तर्क

प्रदेश सरकार की तरफ से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है- 'अपराध की स्थिति को समझने के लिए क्राइम रेट एक बेहतर एवं विश्वसनीय संकेतक है. एनसीआरबी के मुताबिक सम्बन्धित वर्ग की प्रति एक लाख जनसंख्या के सापेक्ष अपराधों की संख्या को अपराध दर (क्राइम रेट) के रूप में परिभाषित किया गया है.' यानी सरकार इसे प्रति एक लाख जनसंख्या पर होने वाले अपराध के हिसाब से देख रही है.

स्क्रीन ग्रैब: समाजवादी पार्टी के ट्वीटर से.

भाजपा से झूठी कोई पार्टी नहीं- अखिलेश यादव

वहीं सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा- 'भाजपा से झूठी पार्टी कोई नहीं है. अगर कैबिनेट स्तर पर यह बात झूठ बोली जाए तो इसका मतलब अखबार झूठे हैं जो आज हम लोगों ने पढ़े. आज अखबार में जो छपा है वो यही छपा है कि पूरे देश में सबसे ज्यादा महिलाओं के खिलाफ अपराध अगर कहीं बढ़े हैं तो वह उत्तर प्रदेश है.'

तस्वीर: विनय कुमार सिह, यूपी तक

योगी जी ईमानदार हैं इसमें कोई शक नहीं- राजभर

इधर सुभासपा प्रमुख ओम प्रकाश राजभर का कहना है- 'योगी योगी जी ईमानदार है इसमें कोई शक नहीं लेकिन अधिकारी योजनाओं को धरातल पर नहीं आने देते हैं.' साथ ही राजभर ने ये भी कहा कि योगी राज में रंगदारी में 90 फीसदी की कमी आई है. प्रदेश के व्यापारियों को रंगदारी टैक्स से राहत मिली है.

प्रतीकात्मक
नेशनल हाईवे, स्टेट हाईवे और एक्सप्रेसवे पर यूपी में सबसे अधिक मौतें, सामने आए ये कारण

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in