Azam Khan News: 27 महीने बाद जनसभा करने आए आजम खान, हुए भावुक, जानें क्या कहा

Up News Hindi | Azam Khan
Azam Khan News: 27 महीने बाद जनसभा करने आए आजम खान, हुए भावुक, जानें क्या कहा
फोटो: मोहम्मद आमिर

उत्तर प्रदेश के रामपुर में लोकसभा उपचुनाव होने जा रहा है. यहां बीजेपी और एसपी दोनों ही दलों के प्रत्याशियों के साथ ही उनके सरपरस्त नेता भी अपनी अपनी जीत को लेकर आश्वस्त नजर आ रहे हैं. इस सबके बीच एसपी के वरिष्ठ नेता और रामपुर विधायक आजम खान 27 महीनों की जेल काटने के बाद एक बार फिर जनसभा में लोगों से मुखातिब हुए.

बता दें कि आजम खान को सुनने के लिए लोग किला के मैदान में एकत्र हुए. हालांकि, यह बात अलग है कि आजम खान के अल्फाजों में धार जरूर थी, लेकिन उनकी दमदार कहलाने वाली आवाज कहीं धीमी थी. इस मौके पर आजम ने अपनी पार्टी के पार्टी प्रत्याशी आसिम राजा के लिए वोट मांगे और कहीं ना कहीं वह बीजेपी सरकार पर हमलावर भी नजर आए.

अपने संबोधन में आजम ने कहा,

"पार्लियामेंट की जीत के बाद शुक्रिया का जलसा करना नसीब नहीं हुआ और विधानसभा का चुनाव जेल से जीतने के बाद आप के दरमियान नहीं आ सका. लेकिन आसिम राजा साहब की वजह से मैं यहां मौजूद हूं. गुजरे दिन और गुजरे दिनों की यादें ना मैं सुना सकूंगा और ना आप सुन सकेंगे. वह ख्वाब नहीं था, वह हकीकत थी. वह दर्द नहीं था वह जख्म था. वह जख्म नहीं था, वह नासूर था."

आजम खान

आजम खान ने पैगंबर पर हुई टिप्पणी को लेकर कहा, "हुजूर की शान में गुस्ताखी करने वाला बदनसीब है. बहुत बदनसीब है. उस बदनसीब का साथ मत दो और उसके जुमलों को दोहराओ मत. जो बदनसीब है, उसको उसके नसीब पर छोड़ दो, उसको उसके हाल पर छोड़ दो."

आसिम राजा को जिताने की अपील करते हुए आजम ने कहा, "आसिम राजा मेरे दिल का टुकड़ा हैं. उठाएगा कोई इतनी तकलीफ जितनी हमने उठाई है? बताओ मेरी बात मानोगे या नहीं मानोगे, अगर मेरी तकलीफ का बदला, 27 महीनों की सिर्फ एक रात के दुखों का बदला लेना चाहते हो तो 23 तारीख को कोई अपने घर में बैठना. मुझे शर्मिंदा मत कर देना, मेरे मुंह पर कालक मत लगा देना. मेरी जिंदगी को मुक्तसर मत कर देना, कहीं ऐसा ना हो कि यह सदमा मेरे लिए ज्यादा हो जाए. इसलिए मैं आसिम राजा के लिए वोट मांगने के लिए हाथ फैलाने के लिए आया हूं."

जेल में गुजारे दिनों को चुनावी जनसभा में याद करते हुए आजम खाना बोले, "एक रात एक सदी के बराबर गुजारी है. एक लम्हा एक जिंदगी के बराबर गुजारा है. जो शख्स तुम्हारे साथ जीता हो, तुम्हारे साथ हंसता हो, रोता हो, मुस्कुराता हो, गलियां ढूंढता हो, तुम्हारे गांव ढूंढता हो, तुम्हारे चेहरे की उदासी तलाश करता हो, तुम्हारे आंसू पीता हो, तुम्हारे दिल की धड़कनों को गिनता हो और चाहता हो वह सीना चीर कर अपना दिल तुम्हारे जिस्म के अंदर तस्लीम कर दे, वह वहां बहुत अकेला था, बहुत उदास बहुत मायूस था, और उसे सब खबर थी तुम्हारी बर्बादी की."

Azam Khan News: 27 महीने बाद जनसभा करने आए आजम खान, हुए भावुक, जानें क्या कहा
रामपुर लोकसभा उपचुनाव: SP प्रत्याशी को जिताने की अपील कर आजम बोले- 'आसिम को राजा बना दो'

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in