window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

उमेश पाल शूटआउट में अतीक अहमद के बेटे अली-उमर भी थे शामिल, जेल से बैठे ही रची साजिश! बने आरोपी

संतोष शर्मा

ADVERTISEMENT

अतीक अहमद के दोनों बेटे
Atiq Ahmed
social share
google news

Lucknow/Prayagraj News: प्रयागराज में हुए उमेश पाल शूटआउट को 1 साल से अधिक समय हो गया है. इस पूरे कांड ने माफिया डॉन अतिक अहमद (Atiq Ahmed) के पूरे काले साम्राज्य को मिट्टी में मिलाने का काम किया है. इस कांड के बाद अतीक अहमद का पूरा परिवार बर्बाद हो गया है. अतीक और उसके भाई अशरफ की हत्या हो चुकी है तो वहीं अतीक के बेटा असद एनकाउंटर में मारा जा चुका है.

अतीक की पत्नी और अशरफ की पत्नी को पिछले 1 साल से पुलिस तलाश रही है तो वही अतीक के गैंग के करीबी या तो पकड़े जा चुके हैं या पुलिस की पकड़ से फरार हैं. इसी बीच जेल में बंद अतीक के बेटों अली और उमर के खिलाफ पुलिस ने बड़ा एक्शन लिया है. बता दें कि उमेश पाल शूटआउट में पुलिस ने अली और उमर को आरोपी बना दिया है.

अली और उमर को बनाया आरोपी

बता दें कि उमेश पाल हत्याकांड में पुलिस ने अतीक अहमद के दोनों बेटे अली और उमर को आरोपी बना दिया है. पुलिस ने जांच के दौरान मिले साक्ष्य और पूछताछ के आधार पर अतीक के दोनों बेटों को आरोपी बनाया है. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

इसके बाद अब उमेश पाल शूटआउट केस में अतीक के जेल में बंद दोनों बेटे भी आरोपी बन गए हैं. मिली जानकारी के मुताबिक, लखनऊ जेल में बंद उमर और नैनी सेंट्रल जेल में बंद अली को वारंट भी भेजा जा चुका है.

पुलिस ने अली और उमर से की थी पूछताछ

बता दें कि उमेश पाल शूटआउट की जांच के दौरान पुलिस ने कई बार जेल में बंद अतीक के दोनों बेटों से पूछताछ की थी. अली और उमर से कई बार पूछताछ की गई. इस केस की जांच के दौरान भी उमर और अली का नाम सामने आया था. 

ADVERTISEMENT

जांच में आया था कि शूटआउट की साजिश में अली और उमर भी शामिल थे. बता दें कि अली और उमर को जेल में बंद रहने के दौरान उमेश पाल हत्याकांड को अंजाम देने वाले शूटरों से मुलाकात कर साजिश में शामिल होने का अभियुक्त बनाया गया.

उमेश पाल शूटआउट क्या था?

बता दें कि राजू पाल हत्याकांड के मुख्य गवाह उमेश पाल की दिनदहाड़े गोली मार कर हत्या कर दी गई थी. उमेश पाल की सुरक्षा में लगे यूपी पुलिस के 2 गनरों की भी इस दौरान हत्या कर दी गई थी. इस शूटआउट को अतीक के बेटे असद और अतीक के गुर्गों ने अंजाम दिया था. इस कांड से पूरे यूपी में हड़कंप मच गया था. बता दें कि इस केस के बाद ही अतीक अहमद का पूरा परिवार बर्बाद हो गया था. 

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT