कानपुर हिंसा: पोस्टर जारी होते ही 'पत्थरबाज' ने किया सरेंडर, थाने पहुंचा नाबालिग युवक

कानपुर हिंसा: पोस्टर जारी होते ही 'पत्थरबाज' ने किया सरेंडर, थाने पहुंचा नाबालिग युवक
फोटो रंजय सिंह

कानपुर हिंसा मामले में पुलिस की ओर से जारी की गईं 40 संदिग्धों की तस्वीरों के बाद इलाके में सनसनी फैल गई है. बता दें कि अपनी तस्वीर सामने के आने के बाद सल्लू नामक युवक ने कर्नेलगंज थाने में सोमवार को सरेंडर किया. सल्लू नाबालिग बताया जा है. इसके अलावा, पुलिस ने सोमवार को ही सल्लू के बड़े भाई और बहनोई को को हाता से हिरासत में लिया था.

मिली जानकारी के अनुसार, सीटीटीवी फुटेज में सल्लू की पत्थर फेंकते हुए फुटेज कैद हुई थी, जिसके बाद उसकी तस्वीर पुलिस ने जारी की. बता दें कि कानपुर हिंसा मामले में पुलिस ने अब तक सल्लू के अलावा 38 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. सल्लू के सरेंडर करने के बाद पुलिस ने उसे हिरासत में लिया है या गिरफ्तार किया है, इसकी पुष्टि अभी नहीं हो सकी है.

आपको बता दें कि सोमवार को पुलिस ने 40 संदिग्धों का पोस्टर चंद्रेश्वर हाता के पास स्थित सद्भावना पुलिस चौकी पर लगाया था.

फोटो: कानपुर पुलिस
कानपुर पुलिस ने सूचना देने के लिए इंस्पेक्टर बेकनगंज का मोबाइल नंबर (9454403715) भी जारी किया. साथ ही सूचना देने वालों का नाम गुप्त रखने का ऐलान किया है. पुलिस के एक अधिकारी का दावा है कि अभी और संदिग्धो की तस्वीरें जारी होंगी.

अपर पुलिस आयुक्त (कानून और व्यवस्था) आनंद प्रकाश तिवारी ने कहा, ‘‘हमने सीसीटीवी फुटेज और वीडियो क्लिप के माध्यम से लगभग 100 और दंगाइयों एवं पथराव करने वालों की पहचान की है."

उन्होंने कहा कि तलाश अभियान जारी है और दंगाइयों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी सुनिश्चित करने के लिए सभी संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है.

हिंसा में अब तक गिरफ्तार हुए सभी 38 आरोपों मुस्लिम है. कोई भी हिंदू आरोपी गिरफ्तार नहीं हुआ है. पुलिस का कहना है कि अभी पत्थरबाजों की शिनाख्त की जा रही है. जैसे-जैसे तस्वीरें आएंगी वैसे कार्रवाई की जाएगी.

इसके अलावा, डीसीपी (दक्षिण) संजीव त्यागी की अगुवाई वाले विशेष जांच दल (एसआईटी) की सहायता के लिए तीन और विशेष दलों का गठन किया गया है. पहले विशेष दल में चार सदस्य शामिल हैं, जिसका नेतृत्व अपर डीसीपी (पूर्वी) राहुल मीठा करेंगे. इसे सीसीटीवी फुटेज की निगरानी करने और सभी आरोपियों की पहचान करने के लिए सीसीटीवी फुटेज को एसआईटी को सौंपने के लिए गठित किया गया है.

सहायक उपायुक्त स्वरूप नगर बृजनारायण सिंह के नेतृत्व वाले एक अन्य पांच सदस्यीय विशेष दल को एक पेट्रोल पंप से खुली बोतल और कंटेनर में पेट्रोल दिए जाने के मामले की जांच की जिम्मेदारी दी गई है.

सहायक उपायुक्त (छावनी) की अगुवाई वाला तीसर दल सोशल मीडिया पर की जाने वाली भड़काऊ, झूठी और घृणास्पद पोस्ट पर नजर रखेगा.

कानपुर हिंसा: पोस्टर जारी होते ही 'पत्थरबाज' ने किया सरेंडर, थाने पहुंचा नाबालिग युवक
कानपुर हिंसा: आरोपियों की जांच और तलाश के लिए एसआईटी गठित

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in