window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

बुलडोजर बाबा तो हार गए... ससुराल वालों ने मजाक किया तो Bulldozer पर बैठ दुल्हन के पास पहुंचा

रवि गुप्ता

ADVERTISEMENT

Gorakhpur
Gorakhpur
social share
google news

UP News: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में बुलडोजर यूपी सरकार की पहचान बन चुका है. यूपी में बुलडोजर को लेकर अलग ही रूप में देखा जाता है. योगी समर्थकों और भाजपा कार्यकर्ताओं में बुलडोजर का जबरदस्त क्रेज है. इसी बीच खुद को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का सेवक बताने वाला एक युवक बुलडोजर पर बैठ पर अपनी बारात में पहुंचा. उसने ये कदम इसलिए उठाया क्योंकि उसके ससुराल पक्ष ने उससे मजाक में कह दिया कि, ‘तुम्हारे बुलडोजर बाबा तो हमारे संतकबीर नगर में हार गए.’ 

बता दें कि दूल्हे को बुलडोजर से आता देख, वहां मौजूद हर कोई हैरान रह गया.जैसे ही ये मामला सभी को पता चला, वैसे ही चर्चाओं में आ गया और पूरे क्षेत्र में ये खबर फैल गई. अब बुलडोजर से आते दूल्हे की तस्वीर और वीडियो सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हो रहे हैं.

गोरखपुर के खजनी तहसील के उनवल बाजार निवासी मेहिन लाल वर्मा के बेटे कृष्णा वर्मा का विवाह संतकबीर नगर के खलीलाबाद रहने वाले एक परिवार से तय हुआ. शादी की तारीख  मंगलवार 9 जुलाई रखी गई. तय तारीख के मुताबिक, परछावन की रस्म निभाने दूल्हा बुलडोजर में सवार होकर आया. रस्म पूरी होने के बाद ही बारात दुल्हन के घर के लिए निकली. लोगों को ये भी उत्सुकता हुई कि आखिर दूल्हा बुलडोजर पर बैठ कर क्यों आ रहा है?

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

ससुराल पक्ष के लोगों ने किया था मजाक

दरअसल, दूल्हा यानी की कृष्णा वर्मा ख़ुद को योगी सेवक बताता है. मिली जानकारी के अनुसार, खलीलाबाद में जब शादी तय हुई तो दूल्हे के ससुराल पक्ष के लोगों ने मजाक में ताना मारते हुए कहा कि इस बार बुलडोजर वाले बाबा की पार्टी तो खलीलाबाद यानी संत कबीर नगर में चुनाव ही हार गई है. यह बात दूल्हे को बेहद नागवार गुजरी और उसने ठान लिया कि वह अपनी बारात में बुलडोजर पर ही आएगा.

बता दें कि ससुराल वाले भी दूल्हे को बुलडोजर पर आते देख हैरान रह गए. उन्हें भी यकीन नहीं आया कि दूल्हा एक मजाक का इतना बुरा मान जाएगा और बुलडोजर पर ही बारात लेकर आ जाएगा. फिलहाल ये पूरा मामला क्षेत्र में चर्चाओं में बना हुआ है.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT