window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

जानें यूपी की वो कौनसी सीट है जिसपर लोकसभा चुनाव में जीत का अंतर सबसे ज्यादा और कम रहा?

हर्ष वर्धन

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

UP Loksabha Chunav Result: लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की राजनीति में समाजवादी पार्टी (सपा) ने अखिलेश यादव की कमान में चमत्कारिक वापसी कर राजनीतिक पंडितों को हैरान कर दिया है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा राम मंदिर निर्माण का श्रेय लेने के बावजूद सपा का शानदार चुनावी प्रदर्शन जमीनी स्तर पर अखिलेश की लोकप्रियता और उनकी राजनीतिक सूझबूझ को दर्शाता है. यूपी की 80 लोकसभा सीटों पर घोषित चुनाव परिणामों के अनुसार, सपा ने 37 सीटें, भाजपा ने 33 कांग्रेस ने 6 सीटों पर जीत दर्ज की है. ऐसे में लोगों के मन में यह जानने की उत्सुकता है कि यूपी की वो कौनसी सीट है जिसपर जीत का अंतर सबसे ज्यादा और सबसे कम रहा.

किस सीट पर रहा जीत का सबसे ज्यादा अंतर?

आपको बता दें कि जीत का सबसे ज्यादा अंतर गौतमबुद्ध नगर लोकसभा सीट पर रहा. यहां भाजपा के महेश शर्मा ने सपा के महेंद्र सिंह नागर को 559472 वोटों के अंतर से हराया. महेश शर्मा को 857829 वोट जबकि महेंद्र सिंह नागर को 298357 वोट मिले. 

किस सीट पर रहा जीत का सबसे कम अंतर?

मालूम हो कि जीत का सबसे कम अंतर हमीरपुर लोकसभा सीट पर रहा. यहां सपा के अजेंद्र सिंघ लोधी ने भाजपा के कुंवर पुष्पेंद्र सिंह चंदेल को मात्र 2629 वोटों के अंतर से हराया. अजेंद्र सिंघ लोधी को 490683 वोट जबकि कुंवर पुष्पेंद्र सिंह चंदेल को 488054 वोट मिले.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

गौरतलब है कि साल 2019 में अकेले 62 सीट पर जीत हासिल करने वाली भाजपा इस बार उत्तर प्रदेश में 33 सीटों पर ही सिमट गई. सपा की स्थापना के बाद लोकसभा चुनावों में यह अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है और इसका श्रेय अखिलेश यादव को जाता है. सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद अखिलेश यादव ने न केवल अपनी पारिवारिक एकता कायम की है, बल्कि 2019 में बसपा से गठबंधन के बावजूद सिर्फ पांच सीटें जीतने वाली सपा ने अकेले (यादव) परिवार में ही पांच सीटें हासिल कर ली हैं.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT