window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

12 सालों से सगी भाभी के साथ शादी के अरमान पाल रहे थे दो भाई, छोटा भाई बना रोड़ा तो मार डाला

दुष्यंत त्यागी

ADVERTISEMENT

Baghpat
Baghpat
social share
google news

UP News: 12 साल पहले बागपत के गांव गुराना में सुखवीर नाम के शख्स की मौत हुई थी. सुखवीर के 3 छोटे भाई ओर थे, जिनका नाम उदयवीर, ओमवीर और यशवीर था. ऐसे में परिजनों ने सुखवीर की पत्नी रितु की शादी परिवार में सबसे छोटे यशवीर के साथ करवा दी. बीच के दोनों भाई यानी ओमवीर और उदयवीर ने शादी नहीं की. अपने सबसे बड़े भाई की पत्नी से शादी करने के बाद यशवीर अपनी जिंदगी खुशी-खुशी जी रहा था. मगर अंदर ही अंदर यशवीर के दोनों बड़े भाई रितु से ही शादी करना चाहते थे और वह दोनों मन ही मन अपने छोटे भाई यशवीर से जलते थे. मगर शायद ही यशवीर को कभी इस बात का अंदाजा रहा होगा कि उसने अपने सबसे बड़े भाई की पत्नी के साथ शादी करना ही, उसकी हत्या का कारण बना जाएगा और उसके दोनों बड़े भाई ही उसकी हत्या को अंजाम दे डालेंगे.

 

उत्तर प्रदेश के बागपत से आए इस मामले ने रिश्तों को शर्मसार कर दिया है. हर कोई ये मामला जानने के बाद सकते में हैं. यहां 2 भाइयों ने अपनी ही भाभी के साथ शादी करने के चक्कर में अपने छोटे भाई को मौत के घाट उतार दिया. दोनों भाई 12 सालों से अपनी भाभी के साथ शादी करना चाहते थे. मगर शादी हो गई थी सबसे छोटे भाई यशवीर के साथ. ये बात पिछले 12 सालों से उनके मन में बैठी हुई थी. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

12 सालों से मन में पाल रहे थे गुस्सा

दरअसल 12 साल पहले जब इन तीनों के सबसे बड़े भाई सुखवीर की मौत हुई तो परिजनों ने सुखवीर की पत्नी की शादी सुखवीर के सबसे छोटे भाई यशवीर से करवा दी. मगर यशवीर के दोनों बड़े भाई, उदयवीर और ओमवीर अपनी भाभी यानी सुखवीर की पत्नी से शादी करना चाहते थे, लेकिन शादी सबसे छोटे भाई यशवीर से करवा दी गई. 

पिछले 12 सालों से उदयवीर और ओमवीर रितु से ही शादी करना चाहते थे. वह अपने-अपने मन में रितु से शादी की हसरत पाले हुए थे. मगर यशवीर अपनी पत्नी रितु के साथ खुशी-खुशी रह रहा था. कल यानी 14 जून के दिन दोनों भाइयों ने यशवीर को गांव में ही गोली मार दी और उसकी हत्या कर दी.

ADVERTISEMENT

परिवार में मचा कोहराम

सबसे बड़े बेटे सुखवीर की मौत 12 साल पहले ही हो चुकी है. अब बीच के दोनों भाइयों ने अपने छोटे भाई को भी मौत के घाट उतार दिया है. पुलिस ने दोनों को जेल भेज दिया है. ऐसे में अब परिवार में कोहराम मचा हुआ है. माता-पिता को यकीन ही नहीं हो रहा है कि उनके 2 बेटों ने अपनी ही छोटे भाई की हत्या कर दी. दोनों के जेल जाने के बाद अब परिवार में यशवीर की पत्नी रितु और बुजुर्ग मां-बाप ही बचे हैं. परिवार के पड़ोसियों का कहना है कि अब परिवार का कोई सहारा भी नहीं बचा है. आर्थिक तौर से भी परिवार टूट गया है.

दोनों भाइयों ने ऐसे की अपने ही छोटे भाई की हत्या

मिली जानकारी के मुताबिक, यशवीर बस का ड्राइवर था. वह हर दूसरे दिन गांव अपने घर आता था. बीते देर रात यशवीर अपने गांव लौटा. इस दौरान उसके दोनों भाई उसका इंतजार कर रहे थे. दोनों भाइयों ने शराब भी पी रखी थी. जैसे ही दोनों ने यशवीर को देखा तो ओमवीर ने उसके दोनों हाथ पकड़ लिए और उदयवीर ने यशवीर पर गोली चला दी. गोली लगने से यशवीर की मौके पर ही मौत हो गई.

ADVERTISEMENT

पुलिस ने क्या बताया?

इस पूरे मामले पर जानकारी देते हुए बागपत के (अपर पुलिस अधीक्षक) नरेंद्र प्रताप सिंह ने बताया, रात मे लगभग 10 बजे एक सूचना मिली थी. बताया गया थाना बड़ौत क्षेत्र के गांव गुराना में सगे भाइयों द्वारा एक युवक की हत्या की गई है. मृतक का नाम यशवीर है. उसकी उम्र 32 साल है.

पुलिस अधिकारी ने आगे बताया, ये 4 भाई है, जिसमे से एक भाई सुखबीर की मौत कई साल पहले ही हो चुकी है. अब यशवीर के हत्या उसके ही बड़े भाई ओमवीर और उदयवीर ने की है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. दोनों आरोपी भाइयों को गिरफ्तार कर लिया गया है.
 

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT