क्या मायावती को देवी मानते हैं चंद्रशेखर? भीम आर्मी संस्थापक ने बुलेट का क्यों किया जिक्र

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

18 सितंबर को प्रयागराज में आयोजित ‘यूपी तक बैठक’ में आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष और भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद ने कई मुद्दों पर अपना पक्ष रखा. आगे पढ़िए उन्होंने क्या-क्या कहा.

“मैं जाति व्यवस्था का बहिष्कार करता हूं. मैं वंचित वर्ग के बहुजन समाज की बात करता हूं. एक दलित सबका नेता क्यों नहीं हो सकता. योगी जी ठाकुर हैं तो सबके नेता हो सकते हैं, हम क्यों नहीं.”

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

“हमारे यहां देवी-देवता का कॉन्सेप्ट नहीं है. यहां देवियों (महिलाओं) की हत्याएं होती हैं. एक समय मायावती जी ने अच्छा काम किया. नेताओं को आने वाली पीढ़ी के लिए कुछ छोड़ना चाहिए.”

“मेरी बुआ (मायावती) से कोई नाराजगी नहीं है. उन्हें लंबे समय तक वोट मिला है. बीएसपी के मालिक सतीश चंद्र मिश्रा हो गए हैं. वे न जाने किन मुद्दों की बात कर रहे हैं. ये मुद्दे दलितों के मुद्दे कभी नहीं रहे.”

ADVERTISEMENT

“मैं बदलाव की बात करता हूं, बदले की नहीं. हम स्मार्ट सिटी में बैठे हैं. प्रयागराज में गड्ढे हैं. एक्सप्रेसवे पर दरारें पड़ गई हैं. मैं शुक्रिया कहता हूं सरकार का कि उन्होंने एनएसए लगाया. हम सरकार से बदला नहीं लेंगे, उनमें सुधार करेंगे.”

“एक तरफ आरएसएस की विचारधारा है, एक तरफ बाबा साहब की. हम विचारधारा की लड़ाई लड़ रहे हैं. मैं युवाओं के बीच रहता हूं. युवा हमें सपोर्ट कर रहे हैं. पंचायत चुनावों में समाज ने हमें वोट दिया है.”

ADVERTISEMENT

”हमारा गठबंधन जनता के साथ है, हमारा प्रयास होगा नौजवानों के रोजगार के मुद्दों को मुख्यधारा में लाना. हम हिंदू-मुस्लिम मुद्दे पर जाएंगे ही नहीं.”

“प्रियंका गांधी हमारे दुख में आईं, हमने भी उनको बहन माना. जब मुश्किल में बहनें होंगी तो हम साथ देंगे. यूपी की सारी बहनों से हम यही कहना चाहते हैं.”

“बैलट के साथ बुलेट की तैयारी की है. ईवीएम से चोरी रोकने का इंतजाम कर लिया है. चुनाव को लेकर हमारी तैयारी पूरी है. पार्टी के कार्यकर्ताओं को स्पष्ट संदेश है कि लोकतंत्र को चोरी नहीं होने देना है.”

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT