window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

आगरा के लापता परिवार का 100 दिन बाद भी कोई सुराग नहीं, घूमने गए नैनीताल, आखिर लोकेशन मिली गुजरात

अरविंद शर्मा

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Agra News: एक पूरा का पूरा परिवार पिछले 100 दिनों से गायब है. मगर पुलिस अभी तक इस परिवार के बारे में कुछ भी पता नहीं लगा पाई है. हम बात कर रहे हैं आगरा के दवा व्यापारी राजेश शर्मा और उनके परिवार की. आज इस परिवार को गायब हुए 100 दिन बित चुके हैं. पुलिस ने खूब जांच-पड़ताल की. मगर पुलिस के हाथ खाली के खाली हैं. पुलिस को समझ नहीं आ रहा है कि पूरा का पूरा परिवार आखिर कहां गायब हो गया?

6 सदस्यों समेत पूरा परिवार लापता

दरअसल आगरा के दवा कारोबारी और उनके परिवार को गुम हुए 100 दिन हो चुके हैं. मगर अभी तक उनका कोई सुराग नहीं मिला है. बता दें कि राजेश शर्मा, उनकी पत्नी सीमा शर्मा, बेटा अभिषेक, बहू ऊषा, बेटी काव्या और 1 साल का नाती विनायक पिछले 100 दिनों से गायब हैं. इतना लंबा वक्त गुजरने के बाद भी पुलिस के हाथ खाली ही हैं.

नैनीताल घुमने गए और आखिर लोकेशन गुजरात में मिली

दरअसल दवा व्यापारी राजेश शर्मा 15 अप्रैल को नैनीताल घूमने गए थे. नैनीताल घूमने के बाद 23 अप्रैल को राजेश शर्मा परिवार के साथ ट्रांस यमुना की श्रीनगर कॉलोनी स्थित अपने घर वापस लौटे थे. घर लौटने के बाद राजेश शर्मा ने अपनी कार को घर पर खड़ा किया और रात में वह टैक्सी कर अपने परिवार के साथ जयपुर रवाना हो गए.  

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

अभी जांच में जो सामने आया है, उसके मुताबिक, राजेश शर्मा और उनके परिवार ने टैक्सी को जयपुर बस स्टैंड पर छोड़ दिया और वहां से थ्री व्हीलर से होटल तक गए. जांच में सामने आया है कि जयपुर में पूरा परिवार एक होटल के दो कमरों में ठहरा और पूर्वाहन 11:30 बजे पूरे परिवार ने होटल छोड़ दिया. 

और हो गया पूरा परिवार लापता

इस दौरान फिरोजाबाद में रहने वाले उनके भाई रमाकांत लगातार अपने भाई से फोन पर संपर्क करने की कोशिश करते रहे. मगर पूरे के पूरे परिवार से उनका कोई संपर्क नहीं हो पा रहा था. उन्होंने सभी के मोबाइल पर फोन किया. मगर किसी का फोन नहीं मिला.

ADVERTISEMENT

मिली जानकारी के मुताबिक, रमाकांत शर्मा ने अपने भाई राजेश शर्मा और उनके परिवार की गुमशुदगी की रिपोर्ट आगरा के थाना ट्रांस यमुना में दर्ज करवाई थी. रमाकांत शर्मा ने बताया था कि 23 अप्रैल को भाई से बात हुई थी और भाई ने बताया था कि वह नैनीताल से बरेली तक पहुंच गए हैं. जल्दी घर पहुंच जाएंगे. इसके बाद उनका फोन बंद हो गया. 

अभी तक पुलिस को क्या-क्या पता चला

मामला बड़ा था. पुलिस ने फौरन मामले की जांच शुरू की. जांच पड़ताल में पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे खंगाले. मिली जानकारी के मुताबिक, सामने आया कि राजेश शर्मा अपने परिवार के साथ रात में घर आए और घर पर गाड़ी खड़ी की. 

ADVERTISEMENT

उसके बाद टैक्सी से रात में ही अपने परिवार के साथ सामान रखकर रवाना हो गए. पुलिस को जांच के दौरान ये भी पता चल गया कि ये परिवार जयपुर के किस होटल में रुका था. पुलिस होटल में गई और जानकारी हासिल की. मगर इसके आगे पुलिस को कोई खास लीड नहीं मिल पाई.

गुजरात में भी कई दिनों तक पुलिस ने डाला डेरा

मिली जानकारी के मुताबिक, राजेश शर्मा के गायब होने के बाद कुछ लोग थाने भी पहुंचे थे. थाने पहुंचने वालों ने बताया था कि राजेश शर्मा को उन्होंने कुछ रकम उधार दी है. पुलिस ने राजेश शर्मा के दोस्त, मिलने वालों समेत तमाम लोगों से पूछताछ की. मगर कुछ हाथ नहीं लगा. 

बता दें कि राजेश शर्मा के गायब होने के बाद आगरा के पुलिस आयुक्त डॉ. प्रीतेंदर सिंह ने उन्हें तलाश करने के लिए पुलिस की दो टीमें बनाई थी. एसओजी को भी लगाया गया था. राजेश शर्मा की लास्ट लोकेशन गुजरात में ट्रेस हुई थी. पुलिस टीम गुजरात में भी गई और कई दिनों तक डेरा डाला. मगर पुलिस को कोई भी सफलता हाथ नहीं लगी. 100 दिन होने के बाद भी राजेश शर्मा का पूरा परिवार कहा लापता है? उनके साथ क्या हुआ? ये अभी तक रहस्य बना हुआ है.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT