परिवार से झगड़ा कर 1993 में रामपुर का आलम गया था पाकिस्तान, अब 30 साल से है वहां की जेल में बंद

ADVERTISEMENT

Rampur
Rampur
social share
google news

Rampur News: रामपुर में रहने वाला आलम मियां 5 भाइयों में सबसे बड़ा था. मां-पिता चाहते थे कि वह परिवार की जिम्मेदारी संभाले और अपने भाइयों का हमेशा साथ दें. मगर इस दौरान आलम मियां का अपने परिवार से विवाद हो गया. विवाद के बाद आलम मियां ने ऐसा कदम उठाया, जिसकी उम्मीद परिजनों ने कभी नहीं की थी. अपने इस कदम से आलम मियां की जिंदगी के 30 साल भी बर्बाद हो गए.  

दरअसल परिजनों से विवाद के बाद आलम मियां घर से भाग गया. आलम ने देश ही छोड़ दिया और वह भाग कर पाकिस्तान चला गया. पाकिस्तान जाना ही उसकी जिंदगी की सबसे बड़ी गलती हो गई. वह पाकिस्तान तो इसलिए गया था कि वहां उसे इज्जत मिलेगी, लोग उसे स्वीकार करेंगे और उसका स्वागत होगा. मगर सब उल्टा हो गया. दरअसल पाकिस्तान ने उसे जेल में बंद कर दिया. अब 30 सालों से आलम पाकिस्तान की जेल में ही बंद है और अपनी गलती के लिए पछता रहा है.

30 साल से जेल में बंद रामपुर का आलम मियां

कहते हैं ‘अपना परिवार, अपना घर और अपना देश अपना ही होता है, अपनों को छोड़ गैरों को अपनाना और अपने देश की जगह परदेस पर भरोसा करने की हिमाक़त, जीवन को अंधकारमय कर देती है’. दरअसल रामपुर की टांडा तहसील में रहने वाला आलम 30 साल पहले कुछ ऐसा ही कर बैठा. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

उसका अपने परिजनों से विवाद हो गया और वह भाग कर पाकिस्तान चला गया. मगर वहां उसे किसी ने नहीं अपनाया और वह पिछले 30 सालों से वहां की जेल में बंद है. अब रामपुर में उसके परिजनों को पता चला है कि आलम पाकिस्तान में हैं और वहां जेल में पिछले 30 सालों से बंद है. परिजनों ने सरकार से मांग की है कि वह उसे देश वापस लाने में सहायता करें.

1993 में गुस्सा होकर चला गया था पाकिस्तान

आलम के भाई अकबर मियां ने इस पूरे मामले के बारे में जानकारी दी है. अकबर ने बताया है कि वह 5 भाई थे. मगर फिलहाल वह 4 ही रामपुर में रहते हैं. उनका एक भाई 1993 में ही देश से बाहर चला गया था. 

ADVERTISEMENT

अकबर का कहना है कि परिवार को हाल ही में एलआईयू के माध्यम से पता चला है कि हमारा एक भाई पाकिस्तान की जेल में पिछले 30 सालों से बंद है. अकबर का कहना है कि जब आलम घर छोड़कर गए तो वह बहुत छोटे थे. इसलिए उन्हें उनकी शक्ल तक याद नहीं है. उस दौरान उनके माता-पिता ने उनको काफी खोजने की कोशिश की थी. मगर उनका कुछ पता नहीं चला था. अब मां-पिता का भी निधन हो चुका है. आलम घर में सबसे बड़े थे.

मोदी सरकार से लगाई गुहार

आलम के परिवार ने अब मोदी सरकार से गुहार लगाई है कि सरकार आलम की मदद करें और उन्हे देश वापस लाए. आलम के भाई अकबर का कहना है कि हम चाहते हैं कि भाई वतन वापस आए और अपने परिजनों से मिले. हमने उन्हें कभी देखा ही नहीं. हम मोदी जी से चाहते हैं कि वह हमारा भाई वापस लाए. सरकार हमारी मदद करें.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT