UP चुनाव के बाद अमेठी पहुंची स्मृति ईरानी, जनता से रूबरू हुईं, गन्ने के जूस से बुझाई प्यास

UP चुनाव के बाद अमेठी पहुंची स्मृति ईरानी, जनता से रूबरू हुईं, गन्ने के जूस से बुझाई प्यास
अमेठी पहुंची स्मृति ईरानी ने रास्ते में काफिला रोककर ठेले पर गन्ने का जूस पिया. फोटो: यूपी तक

यूपी के अमेठी में केंद्रीय मंत्री व स्थानीय सांसद स्मृति ईरानी सोमवार को दो दिवसीय दौरे पर पहुंची. उन्होंने जन चौपाल के माध्यम से लोगों की समस्याओं को सुना व उसके निराकरण के निर्देश दिए.

अहम बिंदु

स्मृति ईरानी बीते विधानसभा चुनाव के बाद पहली बार अपने संसदीय क्षेत्र पहुंची हैं. स्मृति जहां एक तरफ लोगों की समस्याओं के लिए लोगों के बीच पहुंची वहीं उन्होंने सड़क पर खड़े होकर गन्ने के जूस का स्वाद लिया और साथ खड़े लोगों को भी जूस पिलाया.

सोमवार सुबह केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सबसे पहले लखनऊ पहुंची जहां उन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. अपनी मुलाकात को उन्होंने ट्ववीट करते हुए लिखा 'उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आज लखनऊ स्थित उनके सरकारी आवास पर भेंट की. अमेठी लोकसभा क्षेत्र के विकास और जनहित से संबंधित विषयों के बारे में चर्चा की.'

इसके बाद स्मृति सड़क मार्ग द्वारा जगदीपुर के दिछौली गांव पहुंची जहां उन्होंने जन चौपाल में हिस्सा लिया. इस चौपाल में आये लोगों से स्मृति ने उनकी समस्याओं को सुना और मौके पर मौजूद जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को उनकी समस्या निस्तारण के निर्देश दिए.

इस चौपाल में आयी दिछौली निवासी रानीगंज मण्डल की भाजपा मंत्री रंजना देवी ने उन्हें बताया कि हम रोड मांग रहे हैं. हमारे घर के बगल में तालाब है. पूरे गांव का रास्ता है. जब तालाब आषाढ़ में भर जाता है तो हमारे बच्चे और लोग जाते हैं तो पानी लगता हैं, लेकिन कोई हमारी समस्या सुन नहीं रहा है.

इस चौपाल में आयी दिछौली निवासी रानीगंज मण्डल की भाजपा मंत्री रंजना देवी ने उन्हें बताया कि हम रोड मांग रहे हैं. हमारे घर के बगल में तालाब है. पूरे गांव का रास्ता है. जब तालाब आषाढ़ में भर जाता है तो हमारे बच्चे और लोग जाते हैं तो पानी लगता हैं, लेकिन कोई हमारी समस्या सुन नहीं रहा है. इससे पहले तीन बार एप्लीकेशन स्मृति ईरानी को दिया. एक बार जब पंच वर्षीय में दिछौली में डाक्टर के दरवाजे पर एप्लीकेशन दिया, एक बार एप्लीकेशन मीरा नेताइन वारिसगंज और गौरीगंज में जब आई थी तो वहा दिया था और एक एप्लीकेशन यहां दिया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई.

अहम बिंदु

आज भी कागज ले लीं हैं और यही कहती हैं कि हो जाएगा. अब यही सोचते हैं कि हम बीजेपी के कार्यकर्ता हैं. जब हमारा काम नहीं होगा तो हमारे कार्यकर्ता बनने से क्या फायदा. हम यही चाहते हैं कि हमारा काम हो तब बीजेपी के कार्यकर्ता में हमारी गिनती है.

इसी चौपाल में आयी दूसरी महिला जगदीशपुर के दिछौली गांव की रहने वाली शिव दुलारी बताती हैं कि मेरे पास कालोनी, शौचालय व घर नहीं है. जिसको कई बार प्रधान व सेक्रेटरी से कहा लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. आज सांसद के पास अपनी समस्या लेकर आई. वो बोलीं सब ठीक हो जाएगा.

रीता देवी बताती हैं कि यहां रहने और पेंशन की समस्या लेकर वो आईं थीं. अधिकारी को मिलकर कागज दे दिया है. सांसद से भी मुलाकात हुई. प्रधान से कई बार कहा, लेकिन काम नहीं हुआ. मटका बताती हैं मेरा घर ऐसे ही बना हैं मढ़हा में है. आज यहां कालोनी और पेंशन की समस्या लेकर आए हैं. प्रधान से कई बार कहा, लेकिन प्रधान सुनते नहीं हैं. आज यहां अपनी परेशानी बताई तो सांसद बोलीं कि आप का काम होगा निश्चिंत रहें.

वहीं इसी चौपाल में आयी जगदीशपुर के दिछौली गांव निवासी अनवरी बताती हैं कि उनके पास रहने को घर नहीं है. वो यहां पंचायत भवन में रहती हैं. आज यहां शिकायत किया तो बोली कि आपको पर्ची मिलेगी तो आप आइयेगा. जगदीशपुर के दिछौली गांव निवासनी शहाना बताती हैं कि मेरे पास जगह-जमीन नहीं है. हम यहीं पंचायत भवन में रहते हैं. मेरे पास आवास नहीं हैं. इसी की शिकायत करने यहां आए हैं. सांसद बोली हैं कि तुमको पर्ची मिलेगी. अब देखिये मकान मिल जाए तो ठीक ही है.

जगदीशपुर से निकलने के बाद स्मृति ईरानी का काफिला मुसाफिरखाना ब्लॉक के दादरा स्थित हिंगलाज भवानी धाम परिसर पहुंचा. यहां भी स्मृति ईरानी जन चौपाल कार्यक्रम में शामिल हुईं. इस दौरान प्रधानमंत्री आवास के पांच लाभार्थियों को चाबी देने के साथ ही अन्य लाभार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किया. यहीं पर स्मृति ने विवाहित महिलाओं की गोद भराई की और नवजात बच्चों का अन्नप्राशन कराया.

आपको बताते चलें कि स्मृति आज अपने अमेठी दौरे में बेहद साधारण नज़र आ रही थीं. उन्होंने वारिसगंज में अपना काफिला रुकवाया और उतरकर एक गन्ने के जूस के ठेले पर पहुंची और गन्ने का जूस पिया. साथ चल रहे लोगों को भी गन्ने का जूस पिलाया. स्मृति के इस रूप को देखकर वहां मौजूद लोग दंग रह गए. आज के कार्यक्रम के बाद वो मुंशीगंज स्थित एचएएल गेस्ट हाउस जाएंगी और रात्रि विश्राम करेंगी.

अमेठी पहुंची स्मृति ईरानी ने रास्ते में काफिला रोककर ठेले पर गन्ने का जूस पिया.
स्मृति ईरानी फ्लाइट में मिलीं, गैस-तेल के दाम पर हुआ तीखे सवालों से सामना, वीडियो वायरल

संबंधित खबरें

No stories found.