लखनऊ: लाउडस्पीकर, नई धार्मिक परंपराओं पर कैसे होगा कंट्रोल? पुलिस कमिश्नर ने बताया उपाय

लखनऊ: लाउडस्पीकर, नई धार्मिक परंपराओं पर कैसे होगा कंट्रोल? पुलिस कमिश्नर ने बताया उपाय
फोटो कोलाज: यूपी तक

लखनऊ के पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर ने रमजान महीने में चल रहे लाउडस्पीकर विवाद और धार्मिक त्योहारों में पुलिस की तैयारियों को लेकर यूपी तक से बातचीत की है.

उन्होंने कहा कि रमजान के महीने का अंत ईद के साथ होगा, जो एक बड़ा चैलेंज होगा. किसी नई परंपरा को पनपने नहीं दिया जाएगा. लगातार यूपी पुलिस हिंदू और मुस्लिम धर्मगुरुओं से संपर्क में कर रही है.

डीके ठाकुर ने कहा, "लखनऊ तहजीब का शहर है, यहां लगातार पेट्रोलिंग चल रही है. जुलूस के लिए पुलिस की दो तरह की ड्यूटी लगाई गई है, एक जो पहले से तैनात है और दूसरे जो लगातार जुलूस के साथ चलते हैं."

राज्य के कई जिलों में चल रहे लाउडस्पीकर विवाद पर उन्होंने कहा कि कोई नए लाउडस्पीकर नहीं लगाए जाएंगे और जो लगे हैं उसकी आवाज धर्म स्थल से बाहर नहीं जाएगी.

लखनऊ पुलिस आयुक्त ने कहा कि कई जगह देश में लोग हनुमान चालीसा पढ़ने सड़क पर आ रहे हैं, ऐसी किसी परपंरा को यहां जन्म नहीं होने दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि कुरान और हनुमान चालीसा पढ़ने कोई सड़क पर नहीं आएगा, अगर आता है तो ठोस कार्रवाई की जाएगी.
अहम बिंदु

गौरतलब है कि सीएम योगी ने धार्मिक परिसरों में माइक के इस्तेमाल को लेकर मंगलवार को नए निर्देश जारी किए. उन्होंने अपने निर्देश में कहा था कि माइक का प्रयोग किया जा सकता है, लेकिन यह सुनिश्चित हो कि माइक की आवाज उस परिसर से बाहर न आए. अन्य लोगों को कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए.

उन्होंने ये भी कहा था कि धार्मिक कार्यक्रम, पूजा-पाठ आदि निर्धारित स्थान पर ही हों और यह सुनिश्चित करें कि सड़क मार्ग, यातायात बाधित कर कोई धार्मिक आयोजन नहीं हो.

लखनऊ: लाउडस्पीकर, नई धार्मिक परंपराओं पर कैसे होगा कंट्रोल? पुलिस कमिश्नर ने बताया उपाय
धार्मिक परिसरों में माइक के इस्तेमाल को लेकर CM योगी ने जारी किए नए निर्देश, यहां जानिए

संबंधित खबरें

No stories found.