window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

मीटिंग में भड़की कानपुर की मेयर प्रमिला पांडे, अधिकारी पर ही फेंक दी फाइल, वीडियो वायरल

सिमर चावला

ADVERTISEMENT

Kanpur Mayor Pramila Pandey
Kanpur Mayor Pramila Pandey
social share
google news

Kanpur News: अपने एक्शनों से हमेशा चर्चाओं में बनी रहने वाली कानपुर की मेयर प्रमिला पांडे एक बार फिर चर्चाओं में हैं. दरअसल उनका एक वीडियो इस बार उन्हें सुर्खियों में ले आया है. कानपुर मेयर प्रमिला पांडे ने मीटिंग में ऐसा गुस्सा दिखाया कि उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. वीडिया में साफ दिख रहा है कि मीटिंग के बीच में प्रमिला पांडे एक अधिकारी पर फाइल फेंक देती हैं और फिर  अभियंताओं को फटकार लगाती हैं.

मीटिंग में भड़की कानपुर की मेयर

दरअसल, कानपुर निगर निगम में मेयर नाला सफाई एवं अन्य विषयों पर अधिकारियों की बैठक ले रही थी.  नाला सफाई में लापरवाही को लेकर महापौर प्रमिला पांडेय ने बैठक के दौरान नाराजगी जताई. जोन 3 अधिशाषी अभियंता नानक चंद ने मार्च की रिपोर्ट दिखाई तो मेयर ने फाइल फेंक दी और बोली कि अबकी बार नाला भरा तो उसी में डुबो देंगे. आरोपों के अनुसार अभियंता मार्च की फाइल जून में दिखा रहा था, जिसके बाद मेयर नाराज हो गई.

इस बात से थीं नाराज

मेयर प्रमिला पाण्डे का कहना है कि, 'जिस तरीके से अधिकारी कह रहे थे कि नब्बे परसेंट काम हो गया मुझे नहीं लगता हुआ है. स्वास्थ्य विभाग इंजीनिय विभाग के ऊपर जिम्मेदारी डालता है, तो इंजीनियर विभाग स्वास्थ्य विभाग पर. इसीलिए मैंने दोनों की बैठक ली है.बरसात के दो महीने पहले नाला सफाई का मैंने आदेश दिया था लेकिन अभी तक नाले साफ़ नहीं हुए हैं. जब तक अतिक्रमण हटेगा नहीं तब तक नहीं हो पाएगी नाला सफाई.'

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

नाला सफाई के काम में देरी

बता दें कि मेयर ने सभी 6 जोन के अभियंताओं के साथ नाला सफाई की समीक्षा बैठक नगर निगम मुख्यालय में बुलाई थी. बैठक में मेयर के सवाल पर एक भी अभियंता नाला सफाई के निरीक्षण के दौरान  की फोटो तक नहीं दिखा सका. इस पर मेयर ने कहा कि एक भी अभियंता धूप में मौके पर जाना जरूरी नहीं समझता है. सब एसी में बैठकर नौकरी कर रहे हैं. दरअसल, अभियंता ने मेयर के रिपोर्ट मांगने पर मार्च की रिपोर्ट दिखा दी. मेयर ने इस पर कड़ी नाराजगी जताते हुए कहा कि नाला सफाई का कार्य मई माह में शुरू हुआ और रिपोर्ट मार्च की दिखाई जा रही है. इस पर चीफ इंजीनियर मनीष अवस्थी ने भी कड़ी नाराजगी व्यक्त की.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT