window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

अयोध्या के राम मंदिर में खुद की गोली लगने से SSF जवान की मौत? बीते एक साल में यह तीसरा मामला

बनबीर सिंह

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Ayodhya Ram Mandir News: अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि मंदिर की सुरक्षा में तैनात एक एसएसएफ जवान की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है. उसे उसकी ही राइफल से गोली लगी है. गोली कैसे चली और सीधे सीने में लगी, इसको लेकर अभी स्पष्ट जानकारी सामने नहीं आ सकी है. आईजी प्रवीण कुमार का कहना है कि यह सुसाइड है, या वैपन मिस हैंडलिंग इसकी जांच की जा रही है. वहीं अयोध्या के एसएसपी राजकरन नैय्यर ने बताया कि उन्हें सबसे पहले एसएसएफ के गार्ड कमांडर ने यह सूचना दी थी कि जवान ने खुद को गोली मार ली है. यह भी अजब संयोग है कि श्रीराम जन्मभूमि परिसर में पिछले 1 वर्ष में तीन जवानों की इसी तरह गोली लगने से मौत हो चुकी है और तीनों ही घटनाओं को अयोध्या पुलिस ने वैपन मिस हैंडलिंग बताया है.

क्या है मामला?

आपको बता दें कि यह घटना बुधवार की भोर लगभग 4 बजे की बताई जा रही है. 28 वर्षीय एसएसएफ जवान शत्रुघ्न विश्वकर्मा श्रीराम जन्मभूमि मंदिर की सुरक्षा में तैनात था. अचानक गोली चलने की आवाज आई और जब अन्य सुरक्षा जवानों ने देखा तो उस समय शत्रुघ्न विश्वकर्मा जमीन पर गिर चुका था. उसे तुरंत अस्पताल लाया गया, जहां से उसे ट्रॉमा सेंटर भेजा गया. ट्रॉमा सेंटर पहुंचने के बाद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. इसके बाद उसके शव का पोस्टमॉर्टम कराया गया.
 
मृतक शत्रुघ्न विश्वकर्मा पड़ोसी अंबेडकरनगर जिले के कछपुरा का निवासी है. 5 भाई और 2 बहनों में शत्रुघ्न चौथे नंबर का था. उसकी अभी शादी नहीं हुई थी. पिता शिवपूजन विश्वकर्मा की मौत हो चुकी है. घटना की सूचना मिलने के बाद मां मृतक के परिजन पोस्टमॉर्टम हाउस पहुंचे हैं.

मृतक के भाई ने क्या बताया?

मृतक जवान का भाई दिलीप विश्वकर्मा ने कहा, "हमारे पास फोन गया था. सुबह लगभग 6 बजे कि शत्रुघ्न को गोली लगी है. अस्पताल में भर्ती है. इलाज चल रहा है. अभी ठीक-ठाक है. कोई दिक्कत नहीं है, आप लोग आ जाइए. कुछ जानकारी दे ही नहीं रहे प्रशासन वाले. कुछ नहीं पता. तैनाती उनकी राम मंदिर में थी. कोई दिक्कत नहीं थी. हम लोग पांच भाई हैं. यह चौथे नंबर पर थे.  माथे पर गोली लगी है. कैसे लगी है. जानकारी नहीं है, जांच हो इसमें."

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

एसएसपी ने क्या कहा?

अयोध्या के एसएसपी राजकरन नैय्यर ने बताया, "सुबह करीब 5 बजे एसएसएफ के गार्ड कमांडर द्वारा बताया गया कि वहां पर नियुक्त एक आरक्षी द्वारा खुद को गोली मार ली गई है, जिसकी संबंध में उसको तत्काल वहां से दर्शन नगर मेडिकल कॉलेज ले जाया गया. यहां डॉक्टर द्वारा उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. बाकी उसमें जांच प्रक्रिया प्रचलित है, जो भी जानकारी होगी आप लोग को अवगत कराया जाएगा."

बीते एक साल में हुई तीन जवानों की मौत

यह भी अजब सहयोग है कि शत्रुघ्न विश्वकर्मा समेत तीन सुरक्षा जवानों की बीते 1 वर्ष में ऐसी ही संदिग्ध मौत हो चुकी है. 25 अगस्त 2023 को श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के रेड जोन में तैनात सुरक्षा जवान कुलदीप कुमार की मौत अपनी ही राइफल से चली गोली से हो गई थी. इसी तरह 26 मार्च 2024 को कमांडो रामप्रताप सोनी की मौत भी अपनी ही राइफल से चली गोलीसे हुई थी. वह भी श्रीराम मंदिर की सुरक्षा में तैनात था. अब तीसरे सुरक्षाकर्मी शत्रुघ्न विश्वकर्मा की मौत भी अपनी ही राइफल की चली गोली से हो गई है. 

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT