CM योगी ने अपने मंत्रियों को दी चेतावनी, बोले- ऐसी गतिविधियों से रहें दूर, दिए ये निर्देश

योगी आदित्यनाथ
योगी आदित्यनाथफाइल फोटो: चंद्रदीप कुमार, यूपी तक

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बार फिर अपने मंत्रियों को शासन व्यवस्था और क्षेत्र में किए गए कार्यों की समीक्षा करने का निर्देश दिया है. सीएम योगी ने अपने मंत्रियों को चेतावनी दी है कि वे ऐसी किसी भी गतिविधि में शामिल न हों जिससे सरकार की बदनामी हो. योगी ने मंत्रियों को ठेके और अन्य कार्यों में मध्यस्थता न करने की चेतावनी भी दी है. योगी सरकार 2.0 के अपने दूसरे कार्यकाल के 6 महीने पूरे होने के सीएम योगी ने बैठक कर मंत्रियों को खुद फीडबैक दिया है.

अहम बिंदु

बुधवार शाम को एक बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रियों से कहा कि वे इस जिम्मेदारी को बड़े पैमाने पर लोगों की सेवा करने के अवसर के रूप में मानें और वे क्षेत्र में रहें. सप्ताह में कम से कम तीन से चार दिन अपने-अपने विभाग कार्य की समीक्षा करें.

इसके साथ ही उन्होंने मंत्रियों से पीपीपी मोड पर विकास कार्य करने के साथ-साथ कुछ नया करने या सोचने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि यदि वे नियमित रूप से काम करते रहें तो उनके विभागों के पास यह दिखाने के लिए कोई महत्वपूर्ण उपलब्धि नहीं होगी. उन्हें नए विचारों के साथ आने के लिए कहा.

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, योगी ने प्रत्येक मंत्री से उन्हें सौंपे गए कार्यों के बारे में पूछा और उनमें से प्रत्येक को विशिष्ट निर्देश दिए. उन्होंने आगे कहा कि प्रौद्योगिकी का यथासंभव उपयोग किया जाना चाहिए, ताकि लोगों को सरकारी कार्यालयों में आने की आवश्यकता न हो बल्कि लोग विकेंद्रीकृत माध्यमों से अपना काम आसानी से कर सकें.

एक उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि परिवहन विभाग को स्वचालित ड्राइविंग शुरू करनी चाहिए और ऑनलाइन लाइसेंस जारी करना शुरू करना चाहिए. योगी ने परिवहन मंत्री से बस डिपो विकसित करने के लिए कहा ताकि उन्हें "हवाई अड्डे जैसा अनुभव" हो.

सीएम योगी ने स्वास्थ्य सेवाओं पर बात करते हुए संबंधित मंत्री से कहा कि 18 मंडलों में से प्रत्येक में वेलनेस सेंटर स्थापित करने का प्रयास किया जाना चाहिए, यह कहते हुए कि लोग वेलनेस रिट्रीट के लिए बेंगलुरु जैसी जगहों पर जाते हैं और यह सुविधा उत्तर प्रदेश में विकसित की गई है.

अहम बिंदु

उन्होंने पर्यावरण विभाग के विकास पर चर्चा करते हुए कहा कि राज्य भर में लगाए जा रहे पौधे जीवित रहें, यह सुनिश्चित करने के लिए विशेष प्रयास किए जाने चाहिए. इसके साथ ही योगी ने अपने आदेश में विभाग को राज्य के हालात को देखते हुए प्रदूषण नियंत्रण के उपायों पर काम करने को भी कहा है.

इस बैठक को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है क्योंकि पार्टी नगर निगम चुनाव की तैयारी कर रही है. साथ ही राज्य सरकार और केंद्र योजना के शासन मॉडल के साथ जमीन पर कवायद शुरू हो गई है. सीएम योगी ने मंत्रियों को निर्देश भी दिया है जो आगामी चुनावों के लिए पार्टी की रणनीति का प्रमुख हिस्सा है.

योगी आदित्यनाथ
जौनपुर: सीएम योगी को काला झंडा दिखाने के मामले में 2 एसआई और 6 कॉन्स्टेबल निलंबित

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in