गुजरात चुनाव: सीएम योगी समेत सरकार के कई मंत्रियों को बीजेपी ने प्रचार में उतारा

गोरखपुर में संबोधन के दौरान यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ.
गोरखपुर में संबोधन के दौरान यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ.फोटो: यूपी सीएमओ के ट्विटर हैंडल से.

गुजरात चुनाव में बीजेपी ने संगठन की पूरी ताकत झोंक दी है.अलग-अलग राज्यों से संगठन के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं को गुजरात में चुनाव प्रबंधन के लिए लगाया गया है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) जहां तीन रैलियां कर प्रचार का आगाज कर रहे हैं.

वहीं दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) और बृजेश पाठक (Brajesh Pathak) भी गुजरात में प्रचार का जिम्मा सम्भालेंगे. इसके साथ ही योगी सरकार के मंत्रियों को भी गुजरात चुनाव में पार्टी के लिए काम करने की जिम्मेदारी दी गई है. अलग-अलग विधानसभा क्षेत्रों में लगाए गए इन मंत्रियों के जिम्मे संगठन को साधने और चुनाव प्रबंधन करने का काम है.

गुजरात चुनाव का रंग चढ़ने के साथ ही उत्तर प्रदेश की ताकत दिखने लगी है. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक ही दिन में तीन सभाएं करके अपने प्रचार आगाज करने वाले हैं. योगी मोरबी, भरूच और सूरत में सभाएं करेंगे. अब तक जहां विधानसभा चुनाव हुए हैं वहां आदित्यनाथ की सभाओं की मांग रही है.

यूपी के दोनों डिप्टी सीएम भी गुजरात में प्रचार की कमान सम्भालने वाले हैं. केशव प्रसाद मौर्य सूरत में तो बृजेश पाठक अहमदाबाद में पार्टी के पक्ष में प्रचार करेंगे।केशव मौर्य में गुजरात दौरे से पहले ट्वीट किया ‘गुजरात में कमल खिलाने के लिए आज तीन दिवसीय दौरे एर गुजरात पहुंच गया हूं.’ 

स्वतंत्र देव को कच्छ में, जेपीएस राठौड़ को महिसागर में, दयाशंकर सिंह को राजकोट में जिम्मेदारी

इधर, यूपी के मंत्रियों ने भी गुजरात में अलग-अलग जिलों में चुनाव प्रबंधन की कमान सम्भाल ली है. गुजरात चुनाव में यूपी के कार्यकर्ताओं और नेताओं का राजनीतिक कौशल और चुनाव प्रबंधन की दक्षता भी शामिल होगी. यूपी के मंत्रियों को गुजरात में अलग-अलग जिलों में संगठन और चुनाव प्रबंधन में लगाया गया है.

पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को कच्छ में संगठन को साधने की जिम्मेदारी दो गयी है. कच्छ के 7 विधानसभा हैं जिनमें चुनाव प्रबंधन की जिम्मेदारी स्वतंत्र देव सम्भाल रहे हैं. वहीं उत्तर प्रदेश में महामंत्री और योगी सरकार में मंत्री जेपीएस राठौड़ महिसागर में जेपीएस राठौड़ पार्टी संगठन का काम सम्भाल रहे हैं.

3 विधानसभाओं के लिए पार्टी ने काम दिया है. दयाशंकर सिंह राजकोट में संगठन में काम कर रहे हैं. दयाशंकर को 5 विधानसभाओं की जिम्मेदारी मिली है. पूर्व मंत्री सुरेश राणा पर पोरबन्दर में पार्टी के चुनाव प्रबंधन की ज़िम्मेदारी सम्भाल रहे हैं. आने वाले 3-4 दिन में योगी सरकार के कुछ और मंत्री भी गुजरात पहुंचकर अलग-अलग जिलों में संगठन में काम सम्भालने वाले हैं.

इसके अलावा यूपी के नेताओं को भी गुजरात में अलग-अलग जिलों में लगाया गया है. राज्यसभा सांसद विजय पाल सिंह तोमर को सोमनाथ और लक्ष्मीकान्त वाजपेयी पर जूनागढ़ में बैठक और चुनाव प्रबंधन का दायित्व दिया गया है.

यूपी बीजेपी की पूर्व अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद दर्शना सिंह को भी गुजरात भेजा गया है. दर्शना सिंह खास तौर पर महिला मतदाताओं के बीच प्रचार की कमान सम्भालेंगी. यूपी से बड़ी संख्या में कार्यकर्ता भी गुजरात भेजे गए हैं. खास बात ये है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में दूसरे प्रदेशों से यूपी आने वाले कार्यकर्ताओं में सबसे बड़ी संख्या गुजरात के कार्यकर्ताओं की ही थी.’ 

चुनाव प्रबंधन और बैठकों की है जिम्मेदारी 

उत्तर प्रदेश के नेताओं को गुजरात चुनाव में ख़ास तौर पर चुनाव प्रबंधन की ज़िम्मेदारी दी गयी है. जहां एक ओर बड़े चेहरे मुख्यमंत्री और यूपी के केंद्रीय मंत्री प्रचार में शामिल हैं. वहीं यूपी के मंत्रियों और पदाधिकारियों के जिम्मे खास तौर पर जिलों में संगठन को साधने का दायित्व है. यूपी के नेताओं पर विधानसभा, मंडल, शक्ति केंद्र और बूथ स्तर पर बैठकें करने और चुनाव प्रबंधन देखने की जिम्मेदारी है.

इसके साथ ही अलग अलग समूहों के साथ छोटी छोटी बैठकें कर प्रचार करने के लिए भी यूपी के नेताओं को जिम्मेदारी दी गई है.

महिसागर जिले में संगठन में चुनाव प्रबंधन की कमान सम्भाल रहे योगी सरकार में मंत्री जेपीएस राठौड़ का कहना है कि ‘अमित शाह जी ने चुनाव का जो तंत्र बनाया है उसके अनुसार पूरे देश में वो यूनफॉर्म (एक जैसा) है. हम उसको कितनी बेहतर से बेहतर ढंग से चला सकते हैं, ये कार्यकर्ताओं पर है.’ जेपीएस राठौड़ मानते हैं कि गुजरात में ‘सिर्फ मोदी ही मोदी हैं.’

गोरखपुर में संबोधन के दौरान यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ.
मैनपुरी और रामपुर में सपा को मात देने के लिए BJP का खास प्लान, CM योगी ने खुद संभाली कमान

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in