विधानसभा में स्वास्थ्य सेवाओं में बदहाली पर बरसे अखिलेश, पूछा- ये कान वाला इलाज क्या है?

एसपी चीफ अखिलेश यादव (फाइल फोटो).
एसपी चीफ अखिलेश यादव (फाइल फोटो).फोटो: इंडिया टुडे आर्काइव

UP Assembly Monsoon Session: उत्तर प्रदेश विधानसभा के मॉनसून सत्र के दूसरे दिन समाजवादी पार्टी के मुखिया और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा. इस दौरान अखिलेश ने यूपी की स्वास्थ्य सुविधाओं पर चर्चा पर सरकार पर तीखे प्रहारों की बौछार कर दी. बता दें कि यादव ने एक बच्चे के इलाज का मामला उठाया है.

समाजवादी पार्टी ने वीडियो का वह हिस्सा ट्वीट किया है, जिसमें अखिलेश सवाल पूछ रहे हैं, "मानवाधिकार ने सरकार को नोटिस दिया, एक पिता अपने बच्चे को ऑक्सीजन लेकर के सीतापुर से चला, लखनऊ में इलाज नहीं मिला, इस नोटिस का जवाब सरकार को देना है, क्या यह महत्वपूर्ण सवाल नहीं है?"

एसपी चीफ ने कहा,

"आज एंबुलेंस सही समय पर नहीं पहुंच पा रही है. कई बार यह जानकारी मिली है कि एंबुलेंस तब मिली है जब कुछ पैसा दिया गया. अगर मरीज पैसा नहीं दे पाया है, तो उसे वहीं उतार दिया गया. यह एंबुलेंस सेवा समाजवादी पार्टी ने दूरदराज ग्रामीण इलाकों के लिए शुरू की थी. अस्पताल में इलाज के लिए पर्याप्त डॉक्टर नहीं हैं. मरीजों की जांच नहीं हो रही है. कई जगहों पर लोग मोटरसाइकिल और कंधों पर लाश लेकर गए. अस्पताल में स्ट्रेचर नहीं है."

अखिलेश यादव

अखिलेश ने कहा, "कंधे पर लाश, मोटरसाइकल पर लाश ये विश्व देखेगा तो क्या होगा? ये छापेमार मंत्री (परोक्ष रूप से ब्रजेश पाठक पर हमला) इनके छापे का असर क्या है? जहां जहां छापे मारे हैं, मंत्री जी के आपके जाने के बाद क्या असर हुआ कभी सोचा है? मैंने एक एंबुलेंस की तस्वीर लगाई, पर मंत्री जी (ब्रजेश पाठक) आजकल बहुत स्मार्ट बन रहे हैं. तुरंत ये सोशल मीडिया पर चला दिया कि समाजवादी पार्टी झूठ बोल रही है. लेकिन एक चैनल ने इनकी पोल खोल दी. अगर बजट की कमी है, तो नेता सदन क्यों नहीं बता रहे. अगर बजट है तो डिप्टी सीएम को क्यों नहीं दे रहे. शायद इसलिए क्योंकि उन्होंने दो मंत्रियों को बेरोजगार कर दिया है."
अहम बिंदु

अखिलेश यादव ने विधानसभा में स्वास्थ्य मंत्री और डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक पर तंज कसा. अखिलेश यादव ने कहा, "गोंडा में अस्पताल में एक बच्चे को जानवरों ने नोच खाया. पत्रकारों ने मंत्री से सवाल पूछा तो उनके पास जवाब नहीं था. फिर मंत्री जी ने उनके कान में कुछ कह दिया. मैं यह पूछना चाहता हूं कि यह कान वाला इलाज क्या है?"

एसपी मुखिया ने कहा, "आपकी हमसे नाराजगी हो सकती है, क्योंकि हम राजनीति में भागीदार हैं पर लोगों से क्या नाराजगी है? आपकी डबल इंजन की सरकार है, तो आपको डबल पैसा देना चाहिए. पीएचसी से लेकर जिला अस्पताल तक सब जगह हाल खराब है. ₹1 का पर्चा ₹10 का हो गया है. दोबारा आई सरकार इतनी गरीब कैसे हो गई जो बजट नहीं दे पा रही. ये सपा सरकार की सोच थी कि गरीब का इलाज पूरा सरकारी अस्पताल में मुफ्त में हो जाए. जनता का इतना पैसा लेकर कहां जाओगे, लगता है आपको दिल्ली वाले मदद नहीं कर रहे, दिल्ली की सरकार यूपी से बनती है."

वहीं, अखिलेश ने कहा किस्सा सुनाते हुए कहा, "एक व्यक्ति ने गाजीपुर से मुझे फोन पर धमकी दी कि आपको उड़ा दिया जाएगा. मैंने उस व्यक्ति को बुलाया और पूछा कि तुम क्यों जान ले लोगे? उसने कहा कि हमारे गांव की समस्या का समाधान नहीं हो रहा है. इसलिए हाइलाइट करने के लिए मैंने कहा. उसकी समस्या का समाधान हुआ. मगर यहां क्या हो रहा है सरकार में अगर कोई काला झंडा दिखा से, सरकार के खिलाफ अपनी बात उठाना चाहे उसके खिलाफ कार्रवाई होती है.

(सपा प्रमुख अखिलेश यादव के पूरे भाषण को नीचे सुना जा सकता है)

एसपी चीफ अखिलेश यादव (फाइल फोटो).
यूपी विधानसभा मॉनसून सत्र का पहला दिन रहा धमाकेदार, तस्वीरों में देखिए क्या-क्या हुआ?

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in