यूपी उपचुनाव: नामांकन का समय खत्म होने के बाद बीजेपी और सपा के बीच सीधा मुकाबला

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी लोकसभा सीट और विधानसभा की दो सीटों पर पांच दिसंबर को होने वाले उपचुनाव के लिए पर्चा दाखिल करने का समय समाप्त होने के बाद इन सीटों पर अब मुख्य मुकाबला भाजपा और समाजवादी पार्टी और उसके सहयोगियों के बीच हैं. कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी ने इन चुनावों में अपने उम्मीदवार ही नहीं उतारे हैं.

मैनपुरी संसदीय क्षेत्र के अलावा, राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण रामपुर सदर एवं खतौली विधानसभा सीटों पर भी उपचुनाव होने हैं. राज्य में तीन सीटों पर नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 17 नवंबर थी.

मैनपुरी लोकसभा सीट सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के कारण खाली हुई थी, जबकि दो विधानसभा क्षेत्रों में मौजूदा विधायकों क्रमश: आजम खान और विक्रम सिंह सैनी को अलग-अलग मामलों में अदालतों द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद उन्हें अयोग्य ठहराए जाने के कारण रिक्त हुई है. इसी कारण इन सीटों पर उपचुनाव कराया जा रहा है.

मैनपुरी उपचुनाव के लिए कुल 13 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किया है. यहां मुकाबला मुख्य रूप से सपा की डिंपल यादव और भाजपा के रघुराज सिंह शाक्य के बीच है.

अन्य लोगों में ओम प्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी सुभासपा के रमाकांत कश्यप, और निर्दलीय उम्मीदवार शामिल हैं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

रामपुर विधानसभा क्षेत्र के लिए तीन लोगों ने नामांकन पत्र दाखिल किया है. इनमें समाजवादी पार्टी के मोहम्मद असीम राजा, भाजपा के आकाश सक्सेना (हनी) और राजेंद्र सिंह (निर्दलीय) शामिल हैं.

खतौली में मुकाबला भाजपा की राजकुमारी और राष्ट्रीय लोकदल के मदन भैया के बीच है। यहां कुल 14 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किया है.

हालांकि, राज्य में उपचुनावों के नतीजों से न तो केंद्र सरकार और न ही योगी आदित्यनाथ सरकार पर कोई खास फर्क पड़ेगा क्योंकि दोनों जगह भाजपा को बहुमत हासिल हैं, लेकिन नतीजे 2024 में होने वाले आम चुनाव में विजेता को मनोवैज्ञानिक बढ़त देंगे.

ADVERTISEMENT

जून के लोकसभा उपचुनाव में सपा का गढ़ आजमगढ़ और रामपुर से जीतने के बाद, भाजपा का लक्ष्य मैनपुरी में मुख्य प्रतिद्वंद्वी सपा को पटखनी देना है ताकि अगले संसदीय चुनाव में राज्य की सभी 80 संसदीय सीटों को जीतने की उनकी उम्मीद को बल मिल सके.

अखिलेश से नाराज चल रहे उनके बिछड़े चाचा और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के प्रमुख शिवपाल यादव नरम पड़ गए हैं और उन्होंने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से बड़ी बहू डिंपल यादव की जीत सुनिश्चित करने को कहा है.

सपा की ओर शिवपाल के झुकाव ने भाजपा को करारा झटका दिया है, जिसने पीएसपीएल के कद्दावर नेता के समर्थन की उम्मीद में उनके करीबी रघुराज शाक्य को टिकट दिया है.

ADVERTISEMENT

शिवपाल की जसवंतनगर विधानसभा सीट मैनपुरी लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा है और अखिलेश का करहल विधानसभा क्षेत्र भी इसी का हिस्सा हैं.

चुनाव आयोग के मुताबिक 18 नवंबर को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी और 21 नवंबर तक उम्मीदवारी वापस लिए जा सकेंगे. मतदान पांच दिसंबर को होगा जबकि मतगणना आठ दिसंबर को होगी.

अखिलेश-डिंपल की चाचा शिवपाल से मुलाकात पर नेताजी के समधी हरिओम यादव ने कही ये बड़ी बात

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT