लखीमपुर खीरी: राहुल बोले- मैं 2 CM के साथ जा रहा यूपी, 3 लोगों पर धारा 144 लागू नहीं होती

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार, 6 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी हत्याकांड पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर योगी और मोदी सरकार पर हमला बोला है. राहुल गांधी ने कहा कि हिंदुस्तान में इस समय लोकतंत्र की बजाय तानाशाही है. उन्होंने कहा कि राजनेता आज यूपी नहीं जा सकते, कल से हमसे कहा जा रहा कि आप यूपी नहीं आ सकते. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि वह पंजाब और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के साथ यूपी जा रहे हैं. राहुल गांधी ने कहा कि 3 लोगों की यात्रा पर धारा 144 लागू नहीं होती. आपको बता दें कि लखीमपुर खीरी कांड में पीड़ित परिजनों से मिलने की कोशिश में कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी को गिरफ्तार कर लिया गया है. प्रियंका की गिरफ्तारी और उनके साथ हुए कथित दुर्व्यहार के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि ‘चाहे मैं हूं, चाहे प्रियंका हों, चाहे परिवार के लोग हों, हमारी सालों पुरानी ट्रेनिंग है. चाहे आप हमारे साथ दुर्व्यवहार कीजिए, चाहे मार दीजिए, हमें फर्क नहीं पड़ता.’

राहुल गांधी ने कहा, हम राजनीति नहीं कर रहे, कार्रवाई के लिए सरकार पर दबाव बना रहे

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लखीमपुर खीरी मामले में राजनीति होने के सवाल पर कहा कि विपक्ष का काम दबाव बनाना है. उन्होंने कहा, ‘हमने हाथरस कांड में दबाव बनाया, वहां कार्रवाई हुई. हम राजनीति नहीं कर रहे, दबाव बना रहे हैं ताकि कार्रवाई हो. सरकार यही नहीं चाहती, वह चाहती है कि दबाव न बने और अपराधी फरार हो जाएं.’

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

राहुल गांधी के निशानों पर योगी-मोदी सरकार, टॉप पॉइंट्स

‘अब कुछ समय से हिंदुस्तान के किसानों पर सरकार का आक्रमण हो रहा है. एक तो किसानों को जीप के नीचे कुचला जा रहा, उनका मर्डर किया जा रहा है. बीजेपी के गृह राज्य मंत्री की बात हो रही है, उनके बेटे की बात हो रही है, उनपर कोई ऐक्शन नहीं लिया जा रहा है.’

‘पहला आक्रमण भूमि अधिग्रहण बिल को रिवर्स करने का और दूसरा तीन कृषि कानूनों का. सबके सामने किसानों से चोरी की जा रही है. कल पीएम लखनऊ में थे, मगर पीएम लखीमपुर खीरी नहीं जा पाए. पोस्टमॉर्टम ठीक से नहीं किया जा रहा है. जो भी कोई विरोध कर रहा है उसे बंद किया जा रहा है.’

ADVERTISEMENT

‘आज दो सीएम के साथ हम लखनऊ जाने की कोशिश करेंगे, लखीमपुर खीरी जाने की कोशिश करेंगे, मृतकों के परिवारों से मिलने की कोशिश करेंगे.’

‘हमने चिट्ठी लिखी है. हम तीन लोग जा रहे हैं. सेक्शन 144 पांच लोगों को रोकता है, तीन लोग धारा 144 में जा सकते हैं.’

ADVERTISEMENT

‘सरकार को किसानों की ताकत का अंदाजा नहीं, ये किसानों का अपमान कर रहे हैं, उन्हें मार रहे हैं.’

‘इससे पहले हाथरस में हुआ था, उनके विधायक ने भी रेप किया था. अपराधी जो भी करना चाहते हैं कर सकते हैं, चाहे बलात्कार हो, चाहे किसानों का खून हो, अपराधी बाहर हैं और पीड़ित जेल के अंदर हैं.’

प्रियंका गांधी की गिरफ्तारी पर क्या बोले राहुल गांधी, क्या कांग्रेस कर रही राजनीति?

‘चाहे मैं हूं, चाहे प्रियंका हों, चाहे परिवार के लोग हों, हमारी सालों पुरानी ट्रेनिंग है. चाहे आप हमारे साथ दुर्व्यवहार कीजिए, चाहे मार दीजिए, हमें फर्क नहीं पड़ता. लखनऊ जाकर ग्राउंड रिएलिटी समझना चाहते हैं. हम दबाव डालेंगे. सारी पार्टियों को नहीं रोका. सिर्फ हमें रोक रहे हैं. टीएमसी और भीम आर्मी को जाने दिया.’

विपक्ष का काम सरकार पर दबाव बनाने का होता है, जब हम दबाव बनाते हैं तब कार्रवाई होती है, हाथरस में जब हमने दबाव बनाया तब कार्रवाई हुई. सरकार चाहती है कि हम दबाव न बनाएं और दोषी भागकर निकल जाएं. हाथरस में अगर हमने दबाव नहीं बनाया होता तो कार्रवाई नहीं होती.

राहुल गांधी

देश के सभी संस्थानों को बीजेपी-आरएसएस ने काबू कर लिया है. हिंदुस्तान में लोकतंत्र की बजाय आज तानाशाही है. राजनेता उत्तर प्रदेश में नहीं जा सकते. कल से हमें कहा जा रहा है कि आप यूपी नहीं जा सकते. छत्तीसगढ़ के सीएम किसानों से मिलने जाते हैं, तो उनको सेक्शन 144 का हवाला दिया जाता है. यह पूछते हैं कि अकेले आदमी पर कैसा सेक्शन 144, कोई जवाब नहीं मिलता.

राहुल गांधी

जानें क्या है लखीमपुर खीरी कांड?

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में 3 अक्टूबर को किसान आंदोलनकारियों संग हिंसक झड़प में 8 लोगों की मौत हो गई थी. मृतकों में 4 किसान, 3 बीजेपी से जुड़े लोग और एक पत्रकार शामिल हैं. संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक किसान आंदोलनकारी उस दिन डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के कार्यक्रम का विरोध कर रहे थे. संयुक्त किसान मोर्चा का आरोप है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के काफिले ने किसानों को रौंद दिया.

हालांकि मंत्री और उनके बेटे ने इन आरोपों का खंडन करते हुए दावा किया है कि किसानों की आड़ में अराजक तत्वों ने बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या की है. इस मामले में मंत्री के बेटे के खिलाफ केस भी दर्ज किया गया है. संयुक्त किसान मोर्चा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के इस्तीफे और उनके बेटे की गिरफ्तारी की मांग पर अड़ा हुआ है.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT