window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

किसान महापंचायत पर बोले केशव मौर्य- कांग्रेस, एसपी, RLD का आंदोलन, शाहीन बाग वाला होगा हाल

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

संयुक्त किसान मोर्चा की मुजफ्फरनगर महापंचायत में किसानों का हुजूम उमड़ पड़ा है. अब इसको लेकर विभिन्न राजनीतिक दलों की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं. कांग्रेस ने जहां किसानों के आंदोलन को समर्थन दे रहा है, वहीं बीजेपी इसे विपक्ष की साजिश करार दे रही है. महापंचायत को लेकर रविवार को यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की भी तीखी प्रतिक्रिया सामने आई है.

केशव प्रसाद मौर्य बीजेपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में शामिल होने कानपुर आए थे. किसान महापंचायत के बारे में पूछे जाने पर केशव मौर्य ने कहा कि यह किसानों का आंदोलन नहीं है बल्कि कांग्रेस, एसपी, लोकदल के नेताओं का आंदोलन है. उन्होंने आगे कहा, ‘आंदोलन में बसपाई हैं, कांग्रेसी हैं, आप इन्हें किसान ना कहें. ये राजनीतिक लोग हैं, पार्टियों के कार्यकर्ता हैं.’ केशव प्रसाद मौर्य यही नहीं रुके. उन्होंने लगे हाथ इस आंदोलन की तुलना शाहीन बाग के आंदोलन से कर दी.

डिप्टी सीएम ने कहा कि ‘जब कोई मुद्दा नहीं था तब शाहीन बाग शुरू किया गया था. आज किसान के नाम पर भी यही हो रहा है. जैसे शाहीन बाग खत्म हुआ, वैसे ही ये आंदोलन भी खत्म होगा.’ शाहीन बाग आंदोलन नागरिकता संसोशन विधेयक (CAA) और एनआरसी के खिलाफ दिल्ली में हुआ था. यह आंदोलन भी काफी लंबा चला था.

किसान आंदोलन पर यूपी के पीलीभीत से बीजेपी सांसद वरुण गांधी की प्रतिक्रिया भी चर्चा का विषय बनी हुई है. एक तरफ जहां बीजेपी नेता किसान आंदोलन को सिरे से खारिज कर रहे हैं, वहीं वरुण गांधी ने किसानों के साथ सम्मानजनक तरीके से जुड़ने की सलाह दी है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

वरुण ने ट्वीट कर लिखा है, ”मुजफ्फरनगर में आज लाखों किसान प्रोटेस्ट के लिए जुटे हैं. वे हमारे अपने मांस और खून हैं. हमें उनके साथ सम्मानजनक तरीके से फिर से जुड़ने की शुरुआत करने की जरूरत है: उनके दर्द, उनके दृष्टिकोण को समझें.”

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT