CM योगी बोले- 2017 तक गरीब भी अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल भेजना उचित समझता था, मगर अब...

CM Adityanath Yogi | CM Yogi News
सीएम योगी आदित्यनाथ.
सीएम योगी आदित्यनाथ.फोटो: @CMOfficeUP/ ट्विटर

CM Yogi : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को लखनऊ से बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में अध्ययनरत 1.91 करोड़ विद्यार्थियों के यूनिफॉर्म, बैग और स्टेशनरी क्रय के लिए ₹1,200 प्रति छात्र धनराशि अंतरण प्रक्रिया का शुभारंभ किया. इस मौके पर सीएम ने ट्वीट कर कहा, "आज बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों के विद्यार्थी इस बात के लिए गौरव की अनुभूति करते हैं कि वे भी पब्लिक और कॉन्वेंट स्कूल की तर्ज पर अच्छी शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं."

कार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में सीएम योगी ने कहा,

"वर्ष 2017 तक बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों की स्थिति ऐसी थी कि गरीब से गरीब व्यक्ति भी अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल में ही भेजना उचित समझता था, लेकिन विगत 5 वर्षों में विभाग के कर्मचारियों व अध्यापकों की मेहनत ने बेसिक शिक्षा परिषद को विश्वास का प्रतीक बनाया है."

योगी आदित्यनाथ

UP News Hindi : सीएम योगी ने कहा, "वर्ष 2017 से पूर्व 60% बालिकाएं व बड़ी संख्या में बालक नंगे पांव स्कूल जाते थे. जब बैग, यूनिफॉर्म, जूते-मोजे, स्वेटर आदि उन्हें मिलना शुरू हुआ तो हर विद्यार्थी गौरव की अनुभूति करने लगा कि वह भी निजी स्कूल की तर्ज पर अच्छी शिक्षा प्राप्त करने का हकदार है."

सीएम ने कहा,

  • "हम लोगों ने 1.62 लाख शिक्षकों की तैनाती बेसिक शिक्षा परिषद व माध्यमिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में की. 'ऑपरेशन कायाकल्प' के माध्यम से प्रदेश के विद्यालय दर्शनीय बनाए."

  • "कोविड महामारी से प्रत्येक क्षेत्र प्रभावित हुआ है, लेकिन सर्वाधिक प्रभावित होने वाला क्षेत्र शिक्षा है और उसमें भी बेसिक शिक्षा. यद्यपि सरकार ने अपने स्तर पर प्रयास किया. दूरदर्शन के माध्यम से पाठ्यक्रम व कंटेंट प्रस्तुत किए गए."

  • "अप्रैल माह के प्रथम सप्ताह में हम लोगों ने 'स्कूल चलो अभियान' प्रारंभ किया था. मुझे प्रसन्नता है कि इस अवसर पर मुझे एक आकांक्षात्मक जनपद श्रावस्ती में जाने का अवसर प्राप्त हुआ था. 'स्कूल चलो अभियान' के अच्छे परिणाम सामने आए हैं."

सीएम योगी आदित्यनाथ.
PM मोदी ने की गोरखपुर के मधुमक्खी पालक की सराहना, CM योगी बोले- 'आभार प्रधानमंत्री जी'

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in