window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

प्रयागराज: राज्यपाल बोलीं- हमारी शिक्षा व्यवस्था का लक्ष्य देश को विश्वगुरु बनाना है

आनंद राज

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (Anandiben Patel) ने शनिवार को प्रयागराज सिविल लाइंस ज्वाला देवी इंटर कॉलेज विद्या भारती में आयोजित अखिल भारतीय संस्कृति महोत्सव का शुभारंभ किया. तीन दिवसीय अखिल भारतीय संस्कृति महोत्सव के शुभारंभ के मौके पर राज्यपाल ने राष्ट्र जागरण और देश के नवनिर्माण में विद्याभारती की भूमिका पर विस्तार से चर्चा किया.

राज्यपाल ने विद्या भारती के साथ गुजरात और उत्तर प्रदेश में अपने अनुभव को भी साझा किया. उन्होंने बताया कि किस तरह से विद्या भारती बच्चों को न केवल ज्ञानवान बनाने बल्कि उन्हें संस्कारवान बनाने के लिए लगातार काम कर रहा है.

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने कहा कि हमारी शिक्षा व्यवस्था का लक्ष्य देश को विश्वगुरु बनाना है. उन्होंने कहा कि इसके लिए बच्चों में संस्कार जागृत कर उन्हें ज्ञानवान बनाना होगा. इस मौके पर राज्यपाल ने कहा कि हम सबको प्रकृति, पानी और भोजन को भी बचाना होगा.

उन्होंने कहा कि हम सब संकल्प लें कि पानी और भोजन को नहीं बर्बाद करेंगे. नई पीढ़ी को प्रकृति को बचाने के लिए भी प्रेरित करने का कार्य हम सबको करना होगा.

गवर्नर आनंदीबेन पटेल ने शिक्षकों से भी आह्वान किया. उन्होंने कहा कि शिक्षक चाहे वह स्कूल के हों, कालेज के हों या विश्वविद्यालय स्तर के हों सभी को बाहर निकलकर गांव तक पहुंचना होगा. उन्होंने कहा कि गांवों को गोद लेना होगा. वहां की जरूरतों को समझ कर उनके अनुसार संसाधनों का विकास भी करना होगा. बच्चों में कुपोषण की जो समस्या है उसे दूर करना होगा.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

राज्यपाल ने कहा कि हमारे एक विश्वविद्यालय ने ड्रोन बनाया है, लेकिन जरूरत इस बात की है कि उसे शोकेस से बाहर निकालकर गांव तक, आम जन तक पहुंचाने की है, ताकि उस तकनीकी का प्रयोग कृषि को बेहतर करने के लिए हो सके. तभी हमारे विज्ञान की सार्थकता है और हम विश्वगुरु बन पाएंगे.

इस मौके पर राज्यपाल ने बच्चों को शिक्षित और संस्कारवान बनाने में महिलाओं की भूमिका की भी चर्चा की. कार्यक्रम के समापन के मौके पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बच्चों द्वारा लगाई गई सांस्कृतिक प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया. उन्होंने बच्चों के साथ फोटो खिंचवाई और बच्चों को दुलार करती हुई भी राज्यपाल नजर आईं. ज्वाला देवी सरस्वती विद्या मंदिर में तीन दिवसीय अखिल भारतीय संस्कृति महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है. इस महोत्सव में देशभर के विद्या भारती के 11 प्रांतों के लगभग 500 शिक्षक और बच्चे प्रतिभाग कर रहे हैं। 

ADVERTISEMENT

UP की राज्यपाल से मिलकर सपा प्रतिनिधिमंडल ने आजम खान के ‘उत्पीड़न’ की शिकायत की

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT