window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

अब्बा ने टैटू ब्लेड से खरोचा-पिटाई की लेकिन निशा ने हिंदू बन प्रेमी से की शादी, ये कहानी गजब है

कृष्ण गोपाल यादव

ADVERTISEMENT

Bareilly
Bareilly, Bareilly News, Bijnor, Bijnor News, Muslim Girl Married Hindu, UP News, UP Viral News, Viral News, UP Viral
social share
google news

UP News: निशा के अब्बा ने उसके हाथ पर बने टैटू को भी ब्लेड से खुरच दिया. बेटी को खूब मारा-पीटा. परिजनों ने भी उसे प्रताड़ित किया और मारपीट की. मगर निशा ने धर्म के आगे अपने प्यार को अहमियत दी और आखिरकार उसने अपने प्रेमी राजेश कुमार से हिंदू रीति रिवाजों के साथ विवाह कर लिया. इस दौरान निशा ने इस्लाम भी त्याग दिया और सनातन हिंदू धर्म अपनाकर अपना नाम राधिका रख लिया.   

प्यार को पाने के लिए निशा से राधिका बनी युवती का अपने परिवार का ऐसा विरोध झेलना पड़ा, जो शायद ही उसने सोचा होगा. दरअसल निशा मुसलमान थी. मगर उसका प्रेमी हिंदू था. मगर निशा ने ठान लिया था कि अगर वह शादी करेगी तो अपने प्रेमी राजेश से करेगी. ऐसे में निशा से राधिका बनी युवती और राजेश अपने-अपने घरों से भाग गए और आखिरकार बरेली में दोनों ने शादी कर ली. दोनों का कहना है कि अब वह हरिद्वार में अपनी शादीशुदा जिंदगी की नई शुरुआत करेंगे.

बिजनौर की रहने वाली है निशा

आपको बता दें कि निशा उत्तर प्रदेश के बिजनौर की रहने वाली है. अब निशा राधिका बन गई है और उसने अपने प्रेमी राजेश के साथ बरेली में शादी की है. उसने अपना नाम अब राधिका रख लिया है. युवती का कहना है कि उसकी राजेश के साथ 5 साल पहले मुलाकात हुई थी. पहली ही मुलाकात में राजेश ने अपने प्यार का इजहार उससे कर दिया था. तभी से वह दोनों रिश्ते में थे. इसके बाद उसके परिजनों ने उसके साथ खूब मारपीट भी की. मगर वह अपने फैसले से पीछे नहीं हटी.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

युवती ने राजेश के नाम का हाथ में टैटू भी बनवाया था

युवती के परिजन उसके रिश्ते से इतने खफा थे कि उन्होंने अपनी बेटी के साथ जुल्म शुरू कर दिया. निशा से राधिका बनी युवती का कहना है कि उसने अपने हाथ में राजेश के नाम का टैटू भी बनवा लिया था. मगर ये टैटू उसके पापा ने ब्लेड से खुरच दिया और टैटू को कटवा दिया.  

युवती का कहना है कि उसके पिता ने उसे काफी मारा, परिजनों ने भी मारा. इसस उसके सर में चोट आई. युवती का कहना है कि चोट के निशान अभी तक उसके शरीर पर हैं. युवती ने कहा कि अब उसे अपने परिवार से कोई डर नहीं है. अब वह और उसका पति हरिद्वार जाकर अपनी जिंदगी को शुरू करेंगे.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT