window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

यूक्रेन में युद्ध के माहौल से अमरोहा लौटी MBBS छात्रा, सुनाई वहां की कहानी, जानें क्या कहा

बीएस आर्य

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की ओर से यूक्रेन के खिलाफ सैन्य अभियान शुरू करने के कारण बड़े संघर्ष के खतरे आशंका बनी हुई है. इस बीच यूक्रेन से उत्तर प्रदेश के अमरोहा लौटीं एमबीबीएस की छात्रा अंजली सिंह ने यूक्रेन में दहशत के माहौल होने की बात कही है. वहीं, अंजलि ने भारत सरकार से यूक्रेन में फंसे छात्रों को वापस लाने की गुहार और फ्लाइट के टिकट के दाम में राहत दिए जाने की भी मांग की है.

आपको बता दें कि अमरोहा की एकता विहार कॉलोनी निवासी अंजलि सिंह का उनके परिजनों ने यूक्रेन से अपने घर वापसी पर गर्मजोशी से स्वागत किया है.

यूपी तक से खास बातचीत में अंजलि ने बताया,

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

“मैं जिस शहर में थी वो कंट्री के सेंटर में आता है. अमेरिका और नाइजीरिया के छात्रों को वहां की गवर्नमेंट ने बहुत पहले बुला लिया था. बाकी कंट्री के स्टूडेंट्स थे वो सब काफी डर गए थे. कुछ ही दिन पहले इंडियन एम्बेसी ने भी नोटिस दे दिया था कि सारे भारतीय छात्रों को भारत आ जाना चाहिए. इसके चलते वहां जो स्टूडेंट्स थे वो भी डर गए थे, क्योंकि कुछ ज्यादा ही प्रॉब्लम रही होगी, इसलिए इंडियन एम्बेसी ने ऐसा किया है.”

अंजलि सिंह

अंजलि ने आगे बताया, “इंडियन एम्बेसी ने ही सबसे लास्ट में बुलाया था, लेकिन इंडियन एम्बेसी अभी बहुत ज्यादा टच में थी सारे स्टूडेंट के. ब्लास्ट की जो न्यूज छात्रों के पास आई है, उससे वह काफी डरे हुए हैं, लेकिन वे जल्द ही निकलने की कोशिश में लगे हैं.”

अंजलि ने बताया कि फ्लाइट्स के टिकट महंगे हैं और जो स्टूडेंट्स अफॉर्ड नहीं भी कर सकते, उन्हें भी अफॉर्ड करना पड़ रहा है, क्योंकि उन्हें वापस आना है. अंजलि के मुताबिक, “मेरे नॉलेज में जो बच्चे हैं वे ज्यादातर वापस आ रहे हैं और जो बाकी बचे हैं वे 6 से 7 मार्च तक आ जाएंगे.”

ADVERTISEMENT

यूक्रेन के अमरोहा लौटीं अंजलि ने बताया, “ऐसा भी मैंने सुना है कि वहां इलेक्ट्रिसिटी और फूड वगैरह बंद कर दिया जाएगा और नेटवर्क भी बंद कर दिया जाएगा. बाकी अभी मुझे वहां की ज्यादा जानकारी नहीं.

अंजलि ने बताया कि उनके लिए फ्लाइट का टिकट अफॉर्डेबल नहीं था और उन्होंने फ्लाइट के टिकट के प्राइस कम किए जाएं जाने की मांग की है. अंजलि ने मुताबिक, फ्लाइट टिकट के ज्यादा दाम होने चलते काफी बच्चे वापस नहीं आ पा रहे हैं.

आपको बता दें कि भारत ने रूस और यूक्रेन के बीच तनाव को तत्काल कम करने का आह्वान किया है और आगाह किया कि स्थिति एक बड़े संकट में तब्दील हो सकती है.

ADVERTISEMENT

उत्तर प्रदेश में तैयार हुए 9 भव्य मेडिकल कॉलेज, सभी में 100-100 MBBS सीट, डिटेल्स जानें

follow whatsapp

ADVERTISEMENT