मुरादाबाद: 2 बीवियों के चक्कर में हो गया पति का बंटवारा, जानिए कितने दिन रहेगा किसके साथ

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीरफोटो: इंडिया टुडे

यह पढ़कर भले ही आप हैरान हो जाएं लेकिन यह सच है. उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में दो बीवियों ने पति का ही बंटवारा कर लिया. उससे भी बड़ी बात है कि यह बंटवारा दोनों ही बीवियों ने आपसी सहमति से किया. मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा में एक महिला ने दो माह पहले एसएसपी ऑफिस अपने पति के खिलाफ एक शिकायत पत्र लेकर पहुंची थी. जिसमे उनसे पति पर आरोप लगाया था कि उसने अपनी पहली शादी को छिपा कर उससे दूसरी शादी की. महिला ने बताया कि उसका पति ससुराल लेने के बजाए उसे किराए के घर में रख रहा है.

अहम बिंदु

महिला को निकाह के कुछ दिन बाद पता चला कि उसके पति ने पहले से ही निकाह कर रखा है और उसके तीन बच्चे भी हैं. जिले के ठाकुरद्वारा निवासी महिला की शिकायत का संज्ञान लेते हुए एसएसपी ने दोनों पक्षों को काउंसलिंग के नारी उत्थान केंद्र लिए भेजा दिया.

नारी उत्थान केंद्र पर काउंसलर एमपी सिंह ने पति और उसकी दोनों पत्नी को बुलाया और उनसे बातचीत की. काउंसलिंग के दौरान दूसरी पत्नी ने बताया की साल 2017 में अंजान नंबर पर बातचीत के दौरान दोनों में दोस्ती हो गई थी और उसने उससे निकाह भी किया. उनके बीच कोई विवाद नहीं है और वो दोनो पत्नियों को साथ रखना चाहता है. जिसमे एमपी सिंह ने निर्णय लिया कि दोनो पत्नियों को पति बराबर बराबर मकान में रखिएगा. जिससे कोई विवाद न हो और दोनों ही पत्नियों का खर्चा पति ज़िम्मेदारी से उठाएगा. सारी सहूलियत पूरी करेगा और दोनो को ही बराबर समय देगा. कांउसलर की इस बात पर दोनों पत्ननियां राजी भी हो गईं. आपको बता दें की पहली पत्नी से सलीम के 3 बच्चे है तो वहीं दूसरी पत्नी से एक लड़की है.

काउन्सलर एमपी सिंह ने बताया की पहली पत्नी से तो चार-पांच साल पहले शादी हुई थी. दूसरी पत्नी को पता नहीं था और उससे लव मैरिज कर ली. विवाद तब बड़ा जब दूसरी पत्नी को पता चला की युवक पहले से ही शादी शुदा है और उसके 3 बच्चे है. इसके बाद यह पूरा प्रकरण मेरे पास आया. मैंने दोनों को समझाया जिसके बाद यह फैसला लिया गया और इस फैसले से दोनों सहमत भी हैं. शिकायत केवल यही थी कि जो अधिकार था, वह बट गया.

सांकेतिक तस्वीर
खुशी दुबे के घर के बाहर आधी रात को पुलिस ने लगवाया CCTV कैमरा, वकील ने किया ये बड़ा दावा

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in