बीजेपी सांसद बृजभूषण सिंह ने राज ठाकरे को कहा 'कालनेमि', जानिए इसकी रामायण वाली कहानी

बीजेपी सांसद बृजभूषण सिंह ने राज ठाकरे को कहा 'कालनेमि', जानिए इसकी रामायण वाली कहानी
बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह और मनसे प्रमुख राज ठाकरे (फाइल फोटो)तस्वीर: इंडिया टुडे.

भाजपा सांसद बृजभूषण सिंह ने मनसे (महाराष्ट्र नव निर्माण सेना) प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. बृजभूषण सिंह ने दावा किया है कि वो 5 जून को मनसे प्रमुख को आयोध्या में नहीं घुसने देंगे. इसी बीच उन्होंने राज ठाकरे की तुलना रामायणकाल के मायावी राक्षस 'कालनेमि' से कर दी है. बृजभूषण सिंह के इस बयान के बाद 'कालनेमि' चर्चा में है.

बृजभूषण सिंह का कहना है कि राज ठाकरे ने उत्तर भारतीयों का अपमान किया है. यदि वे आयोध्या में रामलला के दर्शन के लिए आते हैं तो उन्हें लखनऊ एयरपोर्ट पर ही रोक लिया जाएगा. आयोध्या में घुसने नहीं दिया जाएगा. बृजभूषण सिंह ने कहा कि यदि राज ठाकरे उत्तर भारतीयों से माफी मांगे तो ही आयोध्या आ सकते हैं.

अहम बिंदु

इसी बीच परसपुर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान बृजभूषण सिंह ने राज ठाकरे को 'कालनेमि' कह दिया. इसके पीछे उनका तर्क है कि राज ठाकरे भी कालनेमि की तरह हैं, जिन्होंने उत्तर भारतीयों के साथ बुरा सुलूक किया है. उन्हें मारा है और अब अचानक कालनेमि की तरह रूप परिवर्तित कर आयोध्या में रामलला का दर्शन करने के लिए आ रहे हैं.

जानिए रामायण काल के कालनेमि की कहानी

रामायण की कथा के मुताबिक जब राम-रावण युद्ध में लक्ष्मण को मेघनाद की शक्ति लगी थी, तब सुषेण वैद्य के कहने पर हनुमान संजीवनी लेने हिमालय की तरफ बढ़ने लगे. हनुमान को रोकने के लिए लंकापति रावण ने परम मायावी राक्षस कालनेमि को भेजा. कालनेमि ने हनुमान के मार्ग में माया से एक सरोवर और कुटी बनाकर मुनि वेष में तपस्या का ढोंग करने लगा. उसने हनुमान जी को रोका और सरोवर में स्नान करके आने को कहा. हनुमान जैसे ही सरोवर में उतरे, एक मगरी ने उनका पैर पकड़ लिया. हनुमान ने उसका वध कर दिया. वो मगरी शापमुक्त हो गई और उसी ने कालनेमि की सच्चाई हनुमान को बता दी. तब हनुमान ने कालनेमि का वध कर दिया.

इधर सांसद बृजभूषण सिंह ने उत्तर भारतीयों को भगवान राम का वंशज बताते हुए कहा है कि उत्तर भारतीयों का अपमान भगवान राम का अपमान है. कैसरगंज लोकसभा क्षेत्र के बहराइच लखनऊ हाइवे पर कई स्थानों पर लगे पोस्टर में सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने आगामी पांच जून को क्षेत्र के लोगों को आयोध्या पहुंचने की अपील की है. उन्होंने कहा कि 5 जून को लाखों की संख्या में लोग सड़क पर उतरकर राज ठाकरे को आयोध्या में घुसने नहीं देंगे. गौरतलब है कि आगामी 5 जून को मनसे प्रमुख राज ठाकरे का आयोध्या आकर रामलला का दर्शन करने की योजना है.

ठाकरे ने सीएम की तरीफ की तो...

बीजेपी और पीएम मोदी का खुलकार विरोध करने वाले राज ठाकरे ने हाल ही में एक बयान में उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की तरीफ की है. इसके बाद से मनसे और बीजेपी के बीच संभावित कनेक्शन भी तलाशे जा रहे हैं. इधर बीजेपी सांसद बृजभूषण सिंह का राज ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोल देना राजनीति के गलियारों में काफी चर्चा का विषय बना हुआ है.

गौरतलब है कि कैसरगंज से बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह 1991 में पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़े और जीत गए. इसके बाद ये सिलसिला आगे भी चलता रहा. बृजभूषण सिंह ने कुश्ती का अखाड़ा छोड़ राजनीति के अखाड़े में कदम रखने के बाद रुके नहीं. मंदिर आंदालने से भी ये जुड़े रहे. आयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद सीबीआई ने इन्हें भी आरोपी बनाया था. इनके ऊपर कई मुकदमें दर्ज हैं और इनकी गिनती यूपी के बहुबली नेताओं में होती है.

बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह और मनसे प्रमुख राज ठाकरे (फाइल फोटो)
अखिलेश से जुड़े सवाल पर CM योगी बोले- 'राम का नाम हनुमान भी लेते थे और कालनेमि भी'

संबंधित खबरें

No stories found.