window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

यूपी में फिर होगी सपा-भाजपा की टक्कर, इन सीटों पर जल्द होगा चुनाव, जानें वजह

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UP News
UP News
social share
google news

Uttar Pradesh News : लोकसभा चुनाव के नतीजे सामने आते हैं ही उत्तर प्रदेश में एक चुनाव की आहट हो गई है. इस चुनाव में यूपी के कई ऐसे नेताओं ने लोकसभा का चुनाव लड़ा जो मौजूदा समय में विधानसभा या विधान परिषद के सदस्य थे.अब लोकसभा की सदस्यता मिलने के बाद ये लोग उत्तर प्रदेश की विधानसभा और विधान परिषद की सदस्यता के साथ मंत्री पद से भी इस्तीफा देने का सिलसिला शुरु हो गया है. जिसके बाद इन सीटों पर उपचुनाव होना लगभग तय है.

अखिलेश समेत इन विधायकों ने दिया इस्तीफा

बता दें कि बुधवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कन्नौज सीट से लोकसभा चुनाव 2024 जीतने के बाद उत्तर प्रदेश विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. 2022 केअखिलेश करहल सीट से विधायक चुने गए थे. अखिलेश के साथ फैजाबाद के नए सांसद अवधेश प्रसाद ने भी अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को भेज दिया है. अवधेश प्रसाद अयोध्या की मिल्कीपुर सीट से विधायक थे. वहीं अंबेडकरनगर के नवनिर्वाचित सांसद लालजी वर्मा भी विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है.   इससे पहले केंद्र सरकार में मंत्री बने जितिन प्रसाद ने भी यूपी विधान परिषद के सदस्याता से भी अपना इस्तीफा दे दिया था. 

इन सीटों पर होगा उपचुनाव

लोकसभा चुनाव के के जिस तरह के नतीजे सामने आए हैं उसके मुकाबिक उत्तर प्रदेश की 9 विधानसभा और 1 विधान परिषद सीट पर अब उपचुनाव होने हैं. कारण, इन सीटों से विधायक अब सांसद बन चुके हैं और एक-एक करके विधायकी से इस्तीफा देने जा रहे हैं. इसके बाद प्रदेश की 9 विधानसभा और 1 विधान परिषद सीट पर आगामी 6 महीने के भीतर उपचुनाव होगा. जिन  9 विधानसभा सीटों पर 4 पर सपा, 3 पर बीजेपी और 1-1 पर आरएलडी-निषाद पार्टी के विधायक हैं. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

जानें क्या कहते हैं नियम

बता दें कि नियमानुसार नेता का किसी दूसरे सदन का सदस्य निर्वाचित होने के बाद 14 दिन के भीतर विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देना अनिवार्य है. वहीं इस्तीफा देने के बाद खाली हुई विधानसभा सीट पर 6 महीने के भीतर उपचुनाव कराना भी अनिवार्य है. सदस्यों के इस्तीफे के बाद चुनाव आयोग द्वारा इन विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव की तैयारी शुरू कर दी जाएगी और तारीखों का ऐलान कर दिया जाएगा. 

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT