window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

बरेली: वीडियो कॉल पर बात करते-करते लड़की ने उतार दिए कपड़े, कारोबारी को करने लगी ब्लैकमेल

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

बरेली में वीडियो कॉल के जरिए हनी ट्रैप का मामला सामने आया है. इस तरह का गिरोह पहले लोगों को वीडियो कॉलिंग करके दोस्ती का झांसा देता है फिर लड़कियों से वीडियो कॉल कराकर प्यार-मोहब्बत की बातें कराया जाता है. इसके बाद न्यूड वीडियो कॉलिंग का भी सिलसिला शुरू होता है. वीडियो कॉल पर हो रहा सबकुछ तब तक तो सामने वाला को नॉर्मल लगता है. पर जैसे ही उस कॉलिंग का रिकॉर्डेड वीडियो उसे भेजा जाता है और वायरल करने की धमकी दी जाती है तो गिरोह की मंसा जाहिर हो जाती है. फिर शुरू होता है वसूली का खेल.

ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश बरेली जनपद मे बरतरिया गली, थाना प्रेमनगर में आया है. यहां के व्यापार मंडल अध्यक्ष शोभित सक्सेना ने बताया कि कुछ दिन पहले ही एक अनजान नंबर से वीडियो कॉलिंग के जरिए बातचीत हुई. वीडियो कॉलिंग के दौरान ही दोस्ती की बातें करते-करते सामने वाली लड़की न्यूड हो गई. इस पूरे वीडियो कॉलिंग की रिकॉर्डिंग और एडिटिंग कर वायरल करने के नाम पर 50 हजार रुपये की मांग की जा रही है.

ऐसे ही मामले कई अन्य व्यापारियों के साथ भी हो रहा है. बताया जा रहा है कि कुछ लोग गिरोह बनाकर न्यूड वीडियो कॉलिंग कर रिकॉर्डिंग कर लेते हैं और फिर सोशल मीडिया में वायरल करने का नाम पर पैसों की डिमांड की जाती है. इसके लिए ब्लैकमेल भी किया जाता है. फिलहाल इस पूरे मामले को लेकर व्यापारियों ने एसपी क्राइम को वीडियो दिखाकर शिकायत दर्ज की है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

एसपी क्राइम ने साइबर सेल को भी जरूरी निर्देश दिए हैं और मामले की जांच शुरू कर दी है. व्यापारियों ने जल्द से जल्द ऐसे गिरोह का पर्दाफाश करने की भी मांग की है. वहीं दूसरी ओर एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने बताया कि मामला संज्ञान में आते ही जांच शुरू कर दी गई है .जल्द ही इस गिरोह का पर्दाफाश किया जाएगा.

पीड़ित की जुबानी जानिए… कैसे हुआ ब्लैकमेलिंग का खेल

पीड़ित के मुताबिक…. एक अनजान नंबर से उनके पास वीडियो कॉल आता है. जल्दबाजी में वो कॉल उनसे पिक हो जाती है. मोबाइल स्क्रीन पर एक युवती दिखती है. वो अश्लील बातें करती है. पीड़ित जैसे ही उसे ये कहा कि ये क्या बदतमीजी है… वो लड़की कपड़े उतारने लग जाती है. पीड़ित वीडियो कॉल कट कर देता है. अगले दिन संजय सिंह नाम का व्यक्ति फोन करता है और कहता है कि वो यूट्यूब चैनल चलाता है. उसके पास एक अश्लील वीडियो आया है और वो उसे अपने चैनल के जरिए वायरल कर देगा. वो पीड़ित व्यापारी को ब्लैकमेल करने की कोशिश करता है और 50 हजार रुपए की डिमांड करता है.

ये करने से बचें- पुलिस

ऐसे गिरोह से बचने के लिए अनजान वीडियो कॉल या चैट से बचें. ऐसे कॉल रिसीव न करें या ऐसे लोगों को चैट पर जवाब देने से बचें. एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने कहा कि यदि कोई महिला या पुरूष चैट या वीडियो कॉल करने का प्रयास करते हैं तो पर आप उन्हीं लोगों से चैट करिए, उनसे ही बातचीत करें जिन्हे आप जानते हैं. जिन्हें आप नहीं जानते वे आपको साइबर फ्रॉड करने के लिए उकसा सकते हैं. आपको हनीट्रैप कर सकते हैं. आप उनसे सतर्क रहें, सजग रहें, यदि आपके साथ इस तरह की कोई घटना होती है तो आप हमारे पास तत्काल शिकायत करें.

ADVERTISEMENT

वीडियो: हनी ट्रैप मामले में पकड़ी गई महिला दारोगा, जानें कैसे रची ब्लैकमेलिंग की साजिश

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT