सोशल मीडिया पर 'IPS' अफसर बन दिखाता था रौब, ऐसे बनाई थी फर्जी DP, पुलिस ने यूं किया अरेस्ट

मामले में पुलिस ने आरोपी राकेश त्रिपाठी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.
मामले में पुलिस ने आरोपी राकेश त्रिपाठी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.फोटो: सत्यम मिश्रा, यूपी तक

आईएएस और आईपीएस बनने का सपना हर किसी को होता है लेकिन जब कुछ लोग आईएएस और आईपीएस नहीं बन पाते हैं तो गलत कदम उठा कर कानून विरुद्ध कार्य कर बैठते हैं. ऐसा ही मामला राजधानी लखनऊ में सामने आया है, जहां मदर डेयरी दूध का सप्लायर राकेश त्रिपाठी नामक शख्स ने इंडियन पुलिस सर्विस की वर्दी में अपनी फोटो डीपी के तौर पर सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर डाली है. इसमें इंस्टाग्राम, फेसबुक और ट्विटर भी शामिल हैं.

आरोप है कि राकेश त्रिपाठी सोशल मीडिया पर लोगों से फर्जी आईपीएस बनकर बातचीत के दौरान रौब झाड़ता था. मिली जानकारी के मुताबिक, मामला संज्ञान में तब आया जब उसने महाराष्ट्र कैडर के आईपीएस यशस्वी यादव की फोटो इंटरनेट से डाउनलोड करके साफ्टवेयर और एप के माध्यम से यशस्वी यादव की फोटो को हटा कर अपना चेहरा पेस्ट कर दिया था और फिर उसे अपनी डीपी बना ली.

बताया जा रहा है कि आरोपी राकेश आईपीएस यशस्वी यादव से बहुत प्रभावित था, इसलिए उसने ऐसा कदम उठाया. दुग्ध उत्पाद कंपनी में सप्लायर के तौर पर काम करने वाले राकेश ने इंस्टाग्राम, फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर आईपीएस की वर्दी के साथ अपनी फोटो चस्पा की थी. जिसके बाद महानगर पुलिस और साइबर क्राइम की टीम ने मिलकर आरोपी राकेश को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है.

वहीं एसीपी महानगर जया शांडिल्य ने बताया,

"आरोपी महानगर थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले न्यू हैदराबाद कॉलोनी का रहने वाला है. उसके खिलाफ महानगर थाने में आईपीसी की धारा 171 और 66 आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया जा चुका है, क्योंकि उसने सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर वर्दी के साथ अपनी फोटो डीपी प्रोफाइल के तौर पर इस्तेमाल की थी. जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया है."

जया शांडिल्य

मिली जानकारी के अनुसार, गिरफ्तार आरोपी राकेश काफी शिक्षित है. उसने प्रारंभिक पढ़ाई एक अच्छे अंग्रेजी कान्वेंट स्कूल से की और फिर इंदौर में जाकर बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (बीबीए) का कोर्स किया है. बीबीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद उसने नोएडा के अमेठी यूनिवर्सिटी से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर की डिग्री प्राप्त की है. गिरफ्तार आरोपी को आईपीएस बनने का जुनून था, लेकिन वह नहीं बन पाया. जिसके बाद उसने ऐसा काम किया है.

मामले में पुलिस ने आरोपी राकेश त्रिपाठी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.
यूपी में एक बार फिर 21 आईपीएस अफसरों का तबादला, देखें किस IPS को कहां मिली नई तैनाती

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in