window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

दीपावली में उज्ज्वला योजना के इन लाभार्थियों को नहीं मिल पाएगा फ्री सिलेंडर, जानें वजह

आशीष श्रीवास्तव

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश में उज्ज्वला योजना के तहत दीपावली में फ्री सिलेंडर की सब्सिडी लेने वाले लाभार्थियों को अभी लंबा इंतजार करना पड़ेगा. आंकड़ों के मुताबिक, उज्ज्वला योजना के करीब 54.04 लाख लाभार्थियों का ही आधार सत्यापित है, जबकि निशुल्क रसोई गैस सिलेंडर का लाभ प्रदेश में 1.75 करोड़ गरीब महिला लाभार्थियों को दिया जाना है.

ऐसे में महज 30 फीसदी के आसपास से लाभार्थियों को इस दीपावली पर फ्री सिलेंडर मिल पाएगा. हालांकि, इस दौरान कई लाभार्थियों का मानना है कि उनका सत्यापन कोई करने नहीं आ रहा है.

जानकारी के मुताबिक, उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों को अक्टूबर से दिसंबर और जनवरी से मार्च के बीच दो एलपीजी सिलेंडर (रिफिल) मुफ्त दिए जाने हैं. उत्तर प्रदेश सरकार ने कैबिनेट में इसे पास कर दिया है, लेकिन सबसे बड़ी समस्या उन लाभार्थियों के पास हैं, जिनके सामने दीपावली है और उनका आधार कार्ड सत्यापन नहीं हो पाया है. माना जा रहा है कि आधार कार्ड सत्यापन ना होने पाने पर उनके खाते में सब्सिडी का पैसा नहीं आ पाएगा. ऐसे में उनकी दीपावली फीकी रह जाएगी.

पेट्रोलियम कंपनी एजेंट को गैस कनेक्शन मिला हुआ है. उनके आधार को राशन कार्ड और गैस के बुक से सत्यापित कर रहे हैं और माना जा रहा है कि इसमें अभी केवल 30 फीसदी ही सत्यापन हो पाया है.

उत्तर प्रदेश खाद्य आपूर्ति विभाग के एडिशनल कमिशनर अटल कुमार राय के मुताबिक, विभाग के पास 54 लाख लाभार्थियों का आधार सत्यापित हैॉ, जिसको पेट्रोलियम कंपनी द्वारा सत्यापित किया गया है, जबकि अभी कुल 1.75 करोड़ों लाभार्थियों का आधार कार्ड सत्यापित किया जाना है. अब ऐसे में इस दीपावली पर जितने लोगों का आधार कार्ड सत्यापन उनके गैस एजेंसी से हो गया है और उनके खातों में पैसा पहुंच जाएगा. सरकार पारदर्शिता चाहती है, इसी वजह से सत्यापन की प्रक्रिया होगी.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT