window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

राष्ट्रपति चुनाव: माफिया मुख्तार के विधायक बेटे अब्बास ने वोट क्यों नहीं दिया, जानिए

संतोष शर्मा

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

सुभासपा के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर (Om Prakash rajbhar) के राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए को समर्थन देने के ऐलान के बाद सवाल उठ रहा था कि क्या माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास भी एनडीए के उम्मीदवार को समर्थन देंगे. चूंकि अब्बास अंसारी सुभासपा के टिकट पर मऊ सदर से विधायक हैं. ऐसे में पार्टी मुखिया द्वारा एनडीए को साथ देने के ऐलान के बाद ये बात सामने आई थी. तब ओम प्रकाश राजभर ने दावा कि था कि वे उनके साथ हैं और एनडीए को ही अपना समर्थन देंगे. पर अब्बास अंसारी ने वोट ही नहीं दिया.

इस संबंध में जब यूपी तक ने पड़ताल की तो सामने आया कि अब्बास अंसरी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ है. अब्बास के खिलाफ लखनऊ के एमपी एमएला कोर्ट से NBW जारी किया गया है. कोर्ट ने कहा कि 27 जुलाई तक अब्बास कोर्ट में पेश हों. दरअसल मामला साल 2019 का है, जब महानगर इंस्पेक्टर ने लखनऊ में एक एफआईआर दर्ज कराई. एफआईआर लाइसेंस के दुरूपयोग की थी. यानी DBBL गन को अंसारी ने हेराफेरी कर एक खतरनाक हथियार बनाया.

चूंकि एनबीडब्ल्यू का नियम है कि जिस व्यक्ति के खिलाफ ये वारंट जारी होगा तो पुलिस उनको कहीं भी देखेगी तो पकड़कर गिरफ्तार करेगी और उसे कोर्ट के सामने पेश करेगी. पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिए ही कहा जा रहा है कि वे लखनऊ वोट डालने नहीं आए.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

अब्बास अंसारी हमारे सिंबल पर चुनाव लड़े हैं- राजभर

इधर ओम प्रकाश राजभर से अब्बास को लेकर यूपी तक ने सवाल पूछा. उन्होंने कहा- अब्बास अंसारी हमारे सिंबल पर चुनाव लड़े हैं. हमारे 6 विधायक हैं. उसमें अब्बास अंसारी भी हैं. यह कहना कि वह सपाई हैं तो हमने भी कई लोगों को सपा से टिकट दिलवाया है और विधायक बने हैं. हम जहां जाएंगे वहां मुख्तार अंसारी के बेटे भी साथ जाएंगे.

बांदा: अब हर महीने बदले जाएंगे मुख्तार अंसारी की सुरक्षा में लगे जेलकर्मी, सामने आई ये वजह

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT