मुलायम भी चाहते थे देश का नाम भारत, तब प्रस्ताव के खिलाफ BJP ने किया था वॉकआउट, जानें किस्सा

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Mulayam Singh Yadav News: जी20 से संबंधित रात्रिभोज के निमंत्रण पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ‘प्रेसीडेंट ऑफ भारत (भारत के राष्ट्रपति)’ के तौर पर संबोधित किए जाने को लेकर मंगलवार को बड़ा राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया. इस विवाद के बीच विपक्ष ने आरोप लगाया कि सरकार देश के दोनों नामों ‘इंडिया’ और ‘भारत’ में से ‘इंडिया’ को बदलना चाहती है. इस सियासी विवाद के बीच अब समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव का भी जिक्र हो रहा है. दरअसल, सपा के एक पुराने घोषणापत्र की चर्चा हो रही है, जिसमें तत्कालीन पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने सरकार में आने पर संविधान में देश का नाम ‘इंडिया’ की जगह ‘भारत’ करने का वादा किया था.

घोषणापत्र में क्या कहा गया था?

दरअसल, 2004 के लोकसभा चुनावों से पहले लखनऊ में जारी किए गए सपा के घोषणापत्र में कहा गया था कि संविधान में ‘इंडिया’ का उल्लेख एक दोष है और देश की गरिमा की रक्षा के लिए इसे ‘भारत’ में बदलने की जरूरत है. उस वक्त घोषणापत्र में कहा गया था, “इंडिया को भारत बनना चाहिए, हमारे देश को हमेशा भारत के नाम से जाना जाता था. हालांकि, ब्रिटिश शासन के 200 वर्षों के दौरान इसका नाम इंडिया रखा गया.”

तब बीजेपी ने मुलायम के प्रस्ताव पर किया था वॉकआउट

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, साल 2004 में उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने यूपी विधानसभा में एक प्रस्ताव पेश किया. इसमें संविधान में संशोधन करके “इंडिया, दैट इज भारत” के बजाय “भारत, दैट इज इंडिया” कहने का प्रस्ताव रखा गया. मगर उस समय विपक्षी भारतीय जनता पार्टी ने इस प्रस्ताव के पारित होने से पहले वॉक आउट कर दिया था. तब सीएम का प्रस्ताव स्वीकार किया गया था. हालांकि इसपर फैसला केंद्र लेता है.

सपा प्रवक्ता ने किया विरोध

इस मुद्दे पर न्यूज एजेंसी पीटीआई को बयान देते हुए सपा प्रवक्ता सुनील सिंह यादव ने कहा, “नेताजी ने यह बात 2004 में कही थी कि अगर कभी हम पावर में आए तो इंडिया का नाम बदलकर भारत कर देंगे. नेता जी की मंशा थी कि किसान, गरीब की मदद हो. आप भारत रख रहे हैं, लेकिन 9 साल में भाजपा ने भारत के लिए क्या किया, गरीब के लिए क्या किया, क्या किसान को बिजली मुफ्त दी? मुझे लगता है कि सिर्फ राजनीतिक लाभ लेने के लिए बीजेपी नाम बदल रही है.”

गौरतलब है कि पिछले साल 10 अक्टूबर को सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव का 82 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था. मुलायम सिंह यादव अगस्त से अस्पताल में भर्ती थे और उन्हें दो अक्टूबर को आईसीयू में स्थानांतरित कर दिया गया था और तब से वह जीवन रक्षक दवाओं पर थे. इसके बाद भारत सरकार ने उन्हें पद्म विभूषण देने का ऐलान किया था.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

    Main news
    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT