SP सांसद एसटी हसन बोले- 'अल्लाह से दुआ करो कि कहीं तुम्हारे मदरसों पर बुल्डोजर न चलने लगे'

UP Samachar | Uttar Pradesh News | UP ki News
SP सांसद एसटी हसन बोले- 'अल्लाह से दुआ करो कि कहीं तुम्हारे मदरसों पर बुल्डोजर न चलने लगे'
फोटो: जगत गौतम

Moradabad News: उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से सपा सांसद डॉ. एसटी हसन ने फिर एक बार बड़ा बयान दिया है. बता दें कि सपा सांसद ने मुरादाबाद स्थित कांठ विधानसभा क्षेत्र के सराय खजूर गांव में कहा कि 'अब अल्लाह से दुआ करो कि कहीं तुम्हारे मदरसों पर बुल्डोजर न चलने लगे, क्योंकि असम में मदरसों पर बुल्डोजर चल रहे हैं, अगर ये निजाम खत्म हो गया तो हम इस्लाम से दूर हो जाएंगे.' बता दें कि एसटी हसन का ये बयान सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है और इस पर तरह-तरह की प्रतिक्रिया भी सामने आ रही हैं.

वहीं, सपा सांसद एसटी हसन ने कॉमन सिविल कोड मामले पर कहा,

"सरकार अब यूनिफॉर्म सिविल कोड लाने जा रही है, जिसके लागू होते ही तुम्हारे सारे हक खत्म हो जाएंगे. मुस्लिम इदारे मिट जाएंगे, मुस्लिम पर्सनल लॉ खत्म हो जाएगा. तुम अपने बच्चों को क्या दोगे?"

एसटी हसन

सपा सांसद ने कहा कि 2019 के बाद से जो हालात उन्होंने संसद में देखे हैं, उसे लेकर वो इतने फिक्रमंद हैं कि उन्हें रात में नींद भी नहीं आती है. उन्हें बहुत अंधेरा नजर आ रहा है, लेकिन उनकी कौम को अभी इस बात का अंदाजा नहीं है.

UP Samachar : एसटी हसन ने कहा कि 'सीएए-एनआरसी (CAA-NRC) लाने की बात हुई थी, हालांकि देश के मुसलमानों ने उसका विरोध किया था, लेकिन अगर वो कानून लागू होता है तो ये सरकार तुमसे बाप-दादाओं के कागज मांगेगी, कहां से लाओगे? फिर तुम्हें बंगलादेशी और पाकिस्तानी कह कर यहां से भगाया जाएगा?

सपा सांसद एसटी हसन ने कहा, "संसद में कोई सत्र ऐसा नहीं होता जब मैंने आपकी बात नहीं रखी हो. जब सीएए आया था तब अमित शाह जी मेरे सामने बैठे थे. मैंने उस वक्त यह कहा था कि अमित शाह जी इस मुल्क को आजाद कराने में हमारे लोगों ने अपना खून इसलिए नहीं दिया था कि आज 70 साल के बाद यह देखना पड़े. हिंदुस्तान को उस जगह मत ले कर जाओ कि इंसान को इंसान से डर लगे. इस मुल्क के अंदर हिंदू-मुस्लिम प्यार से रहना चाहते हैं."

SP सांसद एसटी हसन बोले- 'अल्लाह से दुआ करो कि कहीं तुम्हारे मदरसों पर बुल्डोजर न चलने लगे'
मुरादाबाद: एंटी रोमियो स्क्वाड में तैनात लेडी कॉन्स्टेबल को वर्दी में रील्स बनाना पड़ा भारी

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in