अखिलेश धर्म के आधार पर वोट मांगना बंद कर दें तो उनकी दुकान बंद हो जाएगी: संजीव बालियान

अखिलेश धर्म के आधार पर वोट मांगना बंद कर दें तो उनकी दुकान बंद हो जाएगी: संजीव बालियान
संजीव बालियान और अखिलेश यादव.फोटो कोलाज: यूपी तक

केंद्रीय राज्य मंत्री संजीव बालियान ने सोमवार को समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर वह धर्म के आधार पर वोट मांगना बंद कर दें तो उनकी दुकान बंद हो जाएगी.

गरीब जनकल्याण जनसभा को संबोधित करने संभल पहुंचे बालियान ने आज पत्रकारों से बातचीत में सपा प्रमुख यादव को लेकर पूछे गये एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘अखिलेश यादव वोट की राजनीति करते हैं, धर्म के नाम पर वोट मांगते हैं और अगर धर्म के आधार पर वोट मांगना बंद कर दें तो उनकी दुकान बंद हो जाएगी.''

गौरतलब है कि पैगंबर मोहम्मद पर भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा की कथित विवादित टिप्पणी के बाद प्रदेश भर में विरोध प्रदर्शन के दौरान हाल में हुई हिंसा के संदर्भ में लखनऊ में रविवार को जारी एक बयान में सपा प्रमुख ने सत्तारूढ़ भाजपा पर आरोप लगाया था कि ''यह बात ढकी-छुपी नहीं है कि भाजपा की राजनीति अपने मातृ संगठन आरएसएस के निर्देश पर नफरत और समाज को बांटने की रहती है.”

उन्‍होंने दावा किया था, “हाल में प्रदेश में जो भयंकर अशांति की घटनाएं हुई हैं, उसके पीछे वही राजनीति है और भाजपा के बिगड़े बोल से एक बड़ा समुदाय आहत हुआ.”

यादव ने कहा था, “भाजपा सरकार ने इस दुर्भाग्य पूर्ण विवाद की समाप्ति और सम्बन्धित पक्ष के विरुद्ध कोई ठोस कदम नहीं उठाया जिससे संकट की स्थिति भयंकर रूप ले रही है.” वहीं, राहुल गांधी को प्रवर्तन निदेशालाय (ईडी) की नोटिस के सवाल पर बालियान ने कहा कि ईडी का काम पूछताछ करना है और अगर कोई गड़बड़ी नहीं की है तो वह पूछताछ का जवाब दें.

उन्होंने तंज किया कि ‘‘घोटाले करो और जब सरकार हिसाब ले तो यह कह दो कि हमारा दमन किया जा रहा है.’’ उन्होंने कहा कि हिसाब तो लिया ही जाएगा. बालियान ने सभा में भी विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आठ वर्ष के कार्यकाल में गरीबों के कल्याण में की गई योजनाओं को सिलसिलेवार गिनाया.

(भाषा के इनपुट्स के साथ)

संजीव बालियान और अखिलेश यादव.
बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर पीएम मोदी ने कुशीनगर में महापरिनिर्वाण मंदिर में दर्शन-पूजन किया

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in