window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

शाहजहांपुर में आकर दाल-चावल खा रही है कोरियाई बहू किम बोह नी, सास ने सुनाई अंदर की कहानी

विनय पांडेय

ADVERTISEMENT

WhatsApp Image 2023-08-21 at 1.57.02 PM
WhatsApp Image 2023-08-21 at 1.57.02 PM
social share
google news

Uttar Pradesh News : इश्क वो है, जो महबूब को देखे तो खुदा को भूल जाए…बाजीराव-मस्तानी फिल्म के इस डायलॉग की तरह ही उत्तर प्रदेश में एक प्रेम कहानी सामने आई है. कहते हैं कि प्यार कोई सीमा नहीं होती. बीते दिनों पाकिस्तान की रहने वाली सीमा हैदर (Seema Haider) अपने प्रेमी सचिन के साथ रहने के लिए भारत आई थी. ऐसा ही एक और मामला सामने आया है. अपने प्यार को पाने के लिए साउथ कोरिया की एक लड़की यूपी के शाहजहांपुर पहुंच गई. यहां उसने प्रेमी सुखजीत सिंह के साथ सिख रीति-रिवाज से शादी रचाई. इतना ही नहीं साउथ कोरियन बहू को भारतीय संस्कार और परंपराएं खूब भा रहे हैं.

समंदर पार कर शाहजहांपुर आकर रचाई शादी

दरअसल सुखजीत सिंह 6 साल पहले साउथ कोरिया के बुसान शहर में नौकरी करने गए थे. यहां वह एक कॉफी रेस्टोरेंट में नौकरी करते थे. उन दिनों के बाद उसी रेस्टोरेंट में 23 साल किम बोह नी भी बिलिंग काउंटर पर नौकरी करने आई थी. दोनों के बीच दो साल पहले साउथ कोरिया के रेस्टोरेंट से शुरू हुआ प्यार आज शादी तक पहुंच गया. सुखजीत सिंह और किम पिछले 4 सालों से कोरिया में साथ ही रह रहे थे. अब परिजनों की सहमति के बाद दोनों ने शादी कर ली है. दोनों पिछले काफी समय से शादी की तैयारियां भी कर रहे थे.

दाल-चावल खा रही है कोरियाई बहू

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

शादी के बाद किम बोह शाहजहांपुर में सुखजीत के घर पर रह रही हैं. उन्हें यहां के घर, सड़कें, खेत-खलिहान और लोग खूब भा रहे हैं. शादी के बाद दोनों बेहद खुश हैं. परिवार वाले भी साउथ कोरियन बहू पाकर खुश हैं. वहीं यूपीतक से बात करते हुए सुखजीत की मां ने बताया कि, ‘शादी के बाद उनकी कोरियन बहू यहीं पर रह कर हमारी रीति-रिवाज सीख रही है. उसके आने से पूरे घर में खुशहाली है.’ वहीं खाने को लेकर पूछे गए सवाल को सुखजीत की मां ने बताया कि किम बोह भारतीय खाना को पसंद कर रही है और फिलहाल वो फल-दूध के अलावा दाल-चावल भी चाव से खाती है.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT