लखीमपुर खीरी हिंसा: रजा मुराद खान बोले- आरोप लगने और साबित होने में बड़ा फर्क होता है

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश के रामपुर में पहुंचे हिंदी सिनेमा जगत के फिल्म अभिनेता रजा मुराद खान ने लखीमपुर खीरी कांड पर अफसोस जाहिर किया. हालांकि, वह केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों पर बोलने से बचते नजर आए.

लखीमपुर खीरी हिंसा को लेकर फिल्म अभिनेता रजा मुराद ने कहा, “लोकतंत्र में हर किसी को अपनी बात कहने का हक है, जिसे हम फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन कहते हैं, तो उन्होंने (किसानों) कोई आंदोलन किया है तो वह गैर कानूनी नहीं है. प्रोटेस्ट करना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है.

उन्होंने आगे कहा, “दुनिया में कोई ऐसी समस्या नहीं है, जिसका समाधान नहीं हो सकता, हर समस्या का समाधान हो सकता है. किसान खेती करने के बजाए आंदोलन कर रहे हैं. इससे अनाज कम पैदा हो रहा है, जिससे मुल्क का नुकसान है.”

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा पर किसानों को रौंदने के आरोप पर रजा मुराद ने कहा, “उनपर फिलहाल आरोप लगा है. आरोप लगने और साबित होने में बड़ा फर्क होता है. मैं ना तो किसी का पक्ष ले रहा हूं और ना ही किसी के विरुद्ध बोल रहा हूं. अब किसने यह किया है, इसका फैसला तो अदालत करेगी. “

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों पर अभिनेता रजा मुराद ने कहा कि इन कानूनों के बारे में मेरी कोई जानकारी नहीं है, इसलिए इसके बारे में कोई टिप्पणी नहीं कर सकता हूं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

रजा मुराद ने मशहूर फिल्म एक्टर शाहरुख खान के बेटे और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री टेनी के बेटे पर पुलिसिया कार्रवाई के अलग-अलग पैमानों को लेकर पूछे गए सवाल पर कहा कि पैमाना तो एक ही होना चाहिए. कानून की नजर में सब बराबर हैं.

लखीमपुर खीरी हिंसा: ओवैसी बोले- ‘BJP आशीष मिश्रा को बचा रही क्योंकि वो अपर कास्ट से हैं’

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT