लखीमपुर खीरी हिंसा: मंत्री के बेटे पर FIR दर्ज, 1-12 तक स्कूल बंद, DM ने कहा- 8 मौतें हुईं

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

रविवार को लखीमपुर खीरी में भड़की हिंसा ने यूपी की राजनीति में तूफान ला दिया है. इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के आरोपी बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है. यह एफआईआर तिकोनिया थाने में दर्ज हुई है. आपको बता दें कि लखीमपुर खीरी में हिंसा भी इसी थाना क्षेत्र में हुई थी.

उधर, लखीमपुर खीरी के डीएम अरविंद कुमार चौरसिया ने न्यूज एजेंसी एएनआई से 8 मौतों की पुष्टि की है. उन्होंने बताया है कि लखीमपुर खीरी में 4 किसानों सहित कुल 8 लोगों की मौत हुई है. डीएम ने घटना को अफसोसजनक बताते हुए अपील की है कि इसपर राजनीति नहीं होनी चाहिए.

लखीमपुर खीरी में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए दो आईपीएस अधिकारियों, हिमांशु कुमार और अजय पाल शर्मा को जिम्मेदारी सौंपी गई है. तिकोनिया कांड के चलते लखीमपुर शहर के कक्षा 1 से लेकर 12 तक के सभी निजी स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं. प्राइवेट स्कूल-कॉलेज यूनियन ने भी स्कूल-कॉलेज बन्द रखने निर्णय लिया है.

यूपी पुलिस का दावा, हालात नियंत्रण में

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में यूपी पुलिस ने हालात नियंत्रण में होने का दावा किया है. यूपी पुलिस ने देर रात किए ट्वीट में पुष्टि भी की है कि लखीमपुर खीरी में अबतक 8 लोगों की मौत रिपोर्ट की गई है. पुलिस ने बताया है कि एडीजी लॉ एंड ऑर्डर, एसीएस कृषि, आईजी रेंज और कमिश्नर मौके पर मौजूद हैं व स्थिति नियंत्रण में है. पुलिस का दावा है कि किसी भी अनहोनी को रोकने के लिए पर्याप्त मात्रा में सुरक्षाबलों की तैनाती कर दी गई है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

क्या है मामला?

यूपी के लखीमपुर खीरी के तिकुनिया इलाके में रविवार को हिंसा हुई है. यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का विरोध कर रहे किसानों के साथ हिंसक झड़प की रिपोर्ट है. संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक किसान आंदोलनकारी केशव प्रसाद मौर्य के कार्यक्रम का शांतिपूर्ण तरीके से विरोध कर रहे थे. उन्होंने आरोप लगाया है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे की गाड़ियों ने किसानों को रौंदा और फायरिंग भी की गई.

हालांकि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी ने इन आरोपों का खंडन किया है. उन्होंने दावा किया है कि उनके बेटे सुबह 11 बजे से लेकर कार्यक्रम के खत्म होने तक कार्यक्रम स्थल पर ही मौजूद रहे. केंद्रीय मंत्री के मुताबिक इस बात के वीडियो साक्ष्य भी हैं. उनके बेटे आशीष मिश्रा ने भी दावा किया है कि वह घटनास्थल पर नहीं थे बल्कि सुबह 9 बजे से कार्यक्रम के अंत तक बनबीरपुर में ही थे. उन्होंने भी दावा किया कि कुछ अराजक तत्वों ने हमारे कार्यकर्ताओं पर हमले किए और 4-5 की जान ले ली है.

संयुक्त किसान मोर्चे की मांग, गृह राज्य मंत्री को बर्खास्त किया जाए

उधर संयुक्त किसान मोर्चा ने लखीमपुर खीरी की हिंसा भारत के गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को तुरंत बर्खास्त करने की मांग की है. मोर्चा की तरफ से बोलते हुए योगेंद्र यादव ने मांग की कि, ‘उनके (अजय मिश्रा टेनी के) बेटे और साथ जुड़े जितने गुंडों का नाम आया है उनके खिलाफ 302 का मुकदमा दायर हो. लेकिन इसकी जांच यूपी पुलिस, प्रशासन न करे. सुप्रीम कोर्ट के जज इसकी जांच करें.’

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT