window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

इटावा में अंडर पास बना स्विमिंग पूल! बीच में फंस गई यात्रियों से भरी बस, ऐसे किया गया रेस्क्यू

अमित तिवारी

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Etawah News: इटावा में हो रही 2 दिन से बारिश से जगह-जगह जलभराव हो गया है. वहीं, मैनपुरी फाटक के अंडर पास में जलभराव होने से तालाब की स्थिति बन गई है. हालांकि नगर पालिका ने बेरिकेड लगाकर रास्ता बंद कर रखा है, लेकिन फिर भी अंधेरे का फायदा उठाकर वाहन अंदर घुस जाते हैं और फस जाते हैं. ऐसा ही एक मामला तब हुआ, जब दिल्ली से एक प्राइवेट बस भिंड की ओर जा रही थी. इस दौरान मैनपुरी अंडरपास में बस फंस गई. बस के अंदर 25 यात्री बैठे हुए थे. हालांकि बाद में नगर पालिका की टीम ने बस को रेस्क्यू कर लिया.

मौके पर बुलानी पड़ी जेसीबी मशीन

अंडर पास में बस फंस जाने के कारण उसमें बैठे बच्चे-महिलाएं डर गए. डर की वजह से उनकी हालत खराब होने लगी. प्राइवेट बस में बैठे हुए सभी यात्री बेचैन हो गए. तभी थाना सिविल लाइन पुलिस को सूचना दी गई. उसके बाद इटावा नगर पालिका परिषद से रेस्क्यू करने वाली टीम पहुंची. बस को जेसीबी की मदद से सुरक्षित बाहर निकाला गया.

यात्रियों ने लगाया ये आरोप

यात्रियों ने आरोप लगाया कि बस चालक को मना करने के बावजूद भी उसने अंडर पास में भरे पानी में बस उतार दी, जिस कारण यह घटना घटी. अंडर पास के अंदर लगभग 6 फुट से अधिक पानी भरा हुआ था. बस में छोटे बच्चे भी यात्रा कर रहे थे, सभी डर गए थे. वहीं, बस चालक सोनू का कहना है कि उसके आगे एक रोडवेज बस निकल गई थी, जिस कारण वह बस अंडर पास के अंदर ले गया.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

ड्राइवर ने दी ये सफाई

ड्राइवर के अनुसार, इस दौरान अचानक से बस के पहिए के नीचे पत्थर टकरा गया, जिस कारण बस बंद हो गई और पानी में फंस गई. वहीं, नगर पालिका परिषद के सफाई नायक टीम इंचार्ज मुस्ते हसन ने बताया कि ‘लोगों को मना किया जाता है लेकिन फिर भी लोग नहीं मानते हैं और अपने वाहनों को फंसा लेते हैं. बस और ट्रैक्टर दोनों फंसे हुए हैं. दोनों को सुरक्षित रेस्क्यू करके बाहर निकाल लिया गया है. हमारी टीम मना करती है लेकिन इसके बावजूद भी लोग अनदेखा कर जबरदस्ती गाड़ी को अंदर ले आते हैं. लगातार बारिश से अंडर पास में 6 फुट से अधिक पानी भर चुका है, हमारी टीम पानी निकालने का भी प्रयास कर रही है.’

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT