window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

एक बाल्टी ने ली 10 माह की मासूम मरियम की जान, मुजफ्फरनगर से आया बड़ा ही दर्दनाक मामला

संदीप सैनी

ADVERTISEMENT

Muzaffarnagar
Muzaffarnagar
social share
google news

UP News: पानी की बाल्टी हर किसी के घर में होती है. मगर मुजफ्फरनगर में पानी की बाल्टी ने एक परिवार को जो दर्द दिया है, उसे जान हर कोई सकते में है. यहां एक परिवार में कोहराम मचा हुआ है. मां और पिता का रोते-रोते बुरा हाल है, क्योंकि एक बाल्टी की वजह से उनकी 10 माह की मासूम बच्ची आज इस दुनिया में नहीं है.

दरअसल 10 माह की मासूम बच्ची घर में खेल रही थी. अचानक खेलते-खेलते वह पानी से भरी बाल्टी की तरफ चली गई और वह बाल्टी में गिर गई. बच्ची को बाल्टी में गिरते हुए किसी ने नहीं देखा. ऐसे में बच्ची खुद से बाहर नहीं आ सकीं और बाल्टी में ही डूबकर उसकी दर्दनाक मौत हो गई. जिस तरह से बच्ची की मौत हुई है, उससे हर कोई सकते में हैं.

बाल्टी बनी मौत की बाल्टी

ये हैरान कर देने वाला मामला मुजफ्फरनगर के नगर कोतवाली क्षेत्र में स्थित अंबा बिहार कॉलोनी से सामने आया है. यहां पेशे से वकील मुज्जस्सिम अपने परिवार के साथ रहते हैं. उनकी 10 माह की बच्ची थी. बताया जा रहा है कि वह गुरुवार दोपहर अपनी बच्ची के साथ खेल रहे थे. कभी किसी का फोन आया और वह फोन पर बात करने लगे. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

इस दौरान खेलते-खेलते 10 माह की मासूम बच्ची मरियम पास में ही रखी बाल्टी के पास चली गई. बाल्टी पानी से भरी हुई थी. खेलते-खेलते ना जाने किस तरह से बच्ची बाल्टी के अंदर जा गिरी. दूसरी तरफ बच्ची के पिता का ध्यान बेटी पर नहीं गया और वह फोन पर ही बात करते रहे. जब 1 से 1.30 मिनट बाद पिता की नजर बाल्टी पर पड़ी, तब तक काफी देर हो चुकी थी. 

घटना का पता चलते ही परिवार में कोहराम मच गया. किसी को भी समझ नहीं आया कि आखिर इस तरह से बच्ची की मौत कैसे हो सकती है? फिलहाल परिवार में कोहराम मचा हुआ है. पिता भी खुद को माफ नहीं कर पा रहे हैं. परिजनों ने बिना पुलिस को बताए मरियम को सुपुर्द ए खाक कर दिया है.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT