window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

इत्र कारोबारी पीयूष जैन जेल में बना डॉक्टर! कर रहा कैदियों का इलाज, जेलर ने बताई रोचक बात

रंजय सिंह

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

कानपुर में सैकड़ों करोड़ रुपये की नकदी घर में छिपाने वाला इत्र कारोबारी पीयूष जैन अब जेल में होम्योपैथी इलाज कर रहा है. मिली जानकारी के अनुसार, जेल में जिस बंदी को तकलीफ होती है, वह पीयूष जैन से इलाज कराने के साथ-साथ दवा भी लिखवाता है. वहीं, पीयूष जैन के परिजनों का दावा है कि उसने विदेश की एक होम्योपैथी यूनिवर्सिटी से डिस्टेंस कोर्स कर रखा है. ऐसा कहा जा रहा है कि पीयूष अब अपनी इसी जानकारी का जेल में साथी कैदियों को जमकर लाभ दे रहा है.

जेलर ने क्या बताया?

कानपूर जेल के जेलर आरके जैसवाल ने बताया, “पीयूष जैन को होम्योपैथी की अच्छी जानकारी है. जेल में होम्योपैथी हॉस्पिटल है, जो हफ्ते में दो दिन चलता है. जैन अब तक कई कैदियों को होम्योपैथी की दवा लिख चुका है. अगर कोई कैदी जेल में अच्छा आचरण करता है, किसी का भला करता है, तो यह अच्छा है.”

जेल से हाल ही में रिहा हुए एक शख्स ने बताया, “बगल की बैरक के किसी कैदी को पथरी की बीमारी थी, तो पियूष जैन ने उस कैदी को पथरी की दवा लिखी, जिसके बाद उस कैदी को दर्द में आराम मिला. उसकी एक छोटी पथरी निकल भी गई. जब जेल की ओपीडी में पर्चा दिखाया गया, तो डॉक्टर भी हैरत में पड़ गए, क्योंकि जैन ने वही दवा लिखी थी जो उन्हें लिखने थी.”

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

बता दें कि जैन के घर सैकड़ों करोड़ रुपये मिलने की बात पहले कैदियों के बीच में आकर्षण का केंद्र थी. मगर अब जैन द्वारा किए जा रहे होम्योपैथी इलाज की जेल में जमके चर्चा हो रही है. हालांकि, सुरक्षा के लिहाज से पीयूष जैन ज्यादा किसी से मिलता नहीं है, मगर किसी कैदी को कोई परेशानी होती है तो उसके लिए दवा जरूर लिख देता है.

UP Tak को दीजिए सुझाव और पाइए आकर्षक इनाम

दर्शकों से मिले बेशुमार प्यार की ताकत ही है कि इंडिया टुडे ग्रुप के Tak परिवार के सदस्य यूपी तक ने YouTube पर 60 लाख सबस्क्रिप्शन का आंकड़ा पार कर लिया है. हमें और बेहतर बनने के लिए सिर्फ 60 शब्दों में आपके बेशकीमती सुझावों की जरूरत है. सुझाव देने वाले चुनिंदा लोगों को हमारी तरफ से आकर्षक पुरस्कार दिए जाएंगे. यहां नीचे शेयर की गई खबर पर क्लिक कर बताए गए तरीके से अपने सुझाव हमें भेजें और इनाम पाएं.

ADVERTISEMENT

YouTube पर UP Tak परिवार 60 लाख पार, हम और बेहतर कैसे बनें? 60 शब्दों में बताइए, इनाम पाइए

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT