कानपुर: दबंगों की पिटाई से घायल युवक को पुलिस ने थाने में बैठाया, सदमे में मां की मौत

कानपुर: दबंगों की पिटाई से घायल युवक को पुलिस ने थाने में बैठाया, सदमे में मां की मौत
फोटो कोलाज: यूपी तक

उत्तर प्रदेश के कानपुर (kanpur crime news) में नर्वल थाने के बाहर पुलिस के विरोध में एक बुजुर्ग महिला का शव रखकर आधी रात सैकड़ों लोगों ने विरोध-प्रदर्शन किया. आरोप था कि महिला के बेटे को पहले इलाके के दबंगों ने मारा-पीटा और जब शिकायत करने पीड़ित थाने पहुंचा तो पुलिस ने उसी को बैठा लिया. इसी सदमे में उसकी 60 साल की मां का हार्ट अटैक से निधन हो गया. इस बात से नाराज परिजनों ने पुलिस के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया और चौराहे पर शव रखकर जाम लगा दिया.

जिले के अखरी गांव का रहने वाला नीतेंद्र बुधवार को नर्वल बाजार आया था. आरोप है कि रास्ते में अंकित साहू नाम के शख्स ने उसे रोक लिया और फिर अपने साथियों के संग मिलकर नीतेंद्र को जमकर मारा पीटा. इसके एक हफ्ते पहले भी अंकित ने उसे मारा था. इस मामले में पुलिस ने दोनों पर धारा 151 के तहत कार्यवाही कर दी, जबकि पीटा नीतेंद्र ही गया था.

पीड़ित के परिजनों का आरोप है कि बुधवार को अंकित ने फिर अपने साथियों के साथ मिलकर नीतेंद्र को मारा. इसके बाद पुलिस ने पैसा लेकर पीड़ित को ही थाने में बैठा लिया. यह सुनकर घर में बुजुर्ग मां की तबीयत बिगड़ गई और हॉस्पिटल ले जाते समय उनकी मौत हो गई.

इसके विरोध में परिजनों ने शव रखकर नर्वल थाने के बाहर जाम लगा दिया. इस दौरान पीड़ित नीतेंद्र ने भी थाने के दरोगा को जमकर खरीखोटी सुनाई. आखिर पुलिस अधिकारियों ने आरोपी अंकित और उसके साथियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करके जांच कराने का आश्वासन दिया, तब कहीं जाकर रात 2 बजे विरोध प्रदर्शन खत्म हुआ.

इस पूरे मामले को लेकर एडिशनल एसपी आदित्य शुक्ला का कहना है कि पहले इनकी दूसरे पक्ष से लड़ाई हुई थी, उसमें 151 के तहत कार्रवाई की गई थी. इसके बाद इनका आरोप है कि फिर से उन लोगों ने मारपीट की. पुलिस पर भी आरोप है. इनका कहना है कि इसी सदमे में मां का ब्लडप्रेशर डाउन हो गया और हॉस्पिटल ले जाते समय उनकी मौत हो गई. इनकी एफआईआर लिखी जा रही है. पुलिस के आरोपों की भी जांच की जाएगी.

कानपुर: दबंगों की पिटाई से घायल युवक को पुलिस ने थाने में बैठाया, सदमे में मां की मौत
कानपुर: रूठी पत्नी को मनाने के लिए क्लर्क ने मांगी थी छुट्टी, लेटर वायरल के बाद हुई मंजूर

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in