window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

प्राचीन मूर्तियां, खंडित शिलाएं-स्तंभ, अयोध्या में खुदाई के दौरान मिला था ये सब, तस्वीरें जारी

बनबीर सिंह

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Ayodhya News: अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर पर देशभर की निगाहें हैं. माना जा रहा है कि अगले साल जनवरी में राम लला का ये दिव्य मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा. इसी बीच श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय ने कुछ फोटो X (पूर्व ट्वीटर) पर शेयर की हैं. मिली जानकारी के मुताबिक, ये सभी मूर्तियां, शिलाएं और स्तंभ साल 2002 में हुई ASI सर्वे, राम मंदिर निर्माण के दौरान हुई खुदाई में मिले हैं. 

बता दें कि साल 2002 में हुए ASI की खुदाई के दौरान टीम को प्राचीन मूर्तियों और प्राचीन स्तंभ प्राप्त हुए थे. सुप्रीम कोर्ट के मंदिर पक्ष में फैसला आने के बाद उस स्थान की भी खुदाई की गई, जहां त्रिपाल में राम लला विराजमान थे. इस दौरान भी खुदाई के दौरान प्राचीन खंडित मूर्तियां मिली. मंदिर निर्माण के समय जो खुदाई की गई उस दौरान भी यहां प्राचीन स्तंभ, कलाकृतियां और मूर्तियां और शिलाएं मिली. 

अब श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय ने सोशल मीडिया पर इनकी कई फोटो पोस्ट की हैं. इन फोटो में मूर्तियां दिख रही हैं, जिनपर देवी-देवताओं की आकृतियां बनी हुई हैं. काफी मूर्तियां टूट गई हैं. इसी के साथ इन फोटो में स्तंभ भी दिख रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि ये स्तंभ उस प्राचीन राम मंदिर के हैं, जो पहले यहां हुआ करता था.    

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

चंपत राय ने X पर किया ये पोस्ट

चंपत राय ने X पर पोस्ट करते हुए लिखा, “श्री रामजन्मभूमि पर खुदाई में मिले प्राचीन मंदिर के अवशेष. इसमें अनेकों मूर्तियां और स्तंभ शामिल हैं.” इसी के साथ उन्होंने कई फोटो भी पोस्ट की हैं. उनके द्वारा जारी किए गए फोटो सोशल मीडिया पर जबरदस्त वायरल हो रहे हैं.

ADVERTISEMENT

बता दें कि फिलहाल इन सभी प्राचीन मूर्तियों और स्तंभों को सीआरपीएफ कैंप के पास रख दिया गया है. मंदिर कमेटी का इरादा है कि यहां म्यूजियम बनाकर इन प्राचीन धरोहरों को सुरक्षित रखा जाए और राम लला के दर्शन करने वाले लाखों करोड़ों लोग भी इनके दर्शन कर सकें. 

ADVERTISEMENT

मंदिर निर्माण के समय हुई है 40 से 50 फीट तक खुदाई

बता दें कि अयोध्या में बन रहे राम मंदिर के निर्माण के लिए परिसर में 40 से 50 फीट तक खुदाई की गई है. बताया जा रहा है कि इस दौरान वहां से प्राचीन मूर्तियां, शिलाएं और मंदिर में इस्तेमाल किए जाने वाले स्तंभ मिले हैं. आपको ये भी बता दे कि ASI के सर्वे में भी खुदाई के दौरान काफी कुछ मिला था, जिससे हिंदू पक्ष का केस मजबूत हुआ था.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT