window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

RLD के रोहित अग्रवाल ने भाजपा के संगीत सोम को बताया 'जयचंद' तो मचा बवाल, क्या है माजरा?

यूपी तक

ADVERTISEMENT

Picture: Rohit Aggarwal & Sangeet Som
Picture: Rohit Aggarwal & Sangeet Som
social share
google news

Uttar Pradesh Election News: उत्तर प्रदेश लोकसभा चुनाव के नतीजे अब सबके सामने हैं. यूपी में भाजपा ने अपनी उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं किया है. ऐसे में मुजफ्फरनगर में संजीव बालियान को मिली हार के बाद भाजपा और रालोद आमने सामने आ गए थे. पहले बीजेपी के पूर्व विधायक संगीत सोम ने बीजेपी-आरएलडी गठबंधन पर सवाल उठाया. इसके बाद रालोद के व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष रोहित अग्रवाल ने संगीत सोम को जयचंद बताते हुए मुजफ्फरनगर सीट का हार का कारण बताया, जिसके बाद पार्टी ने उन्हें कार्रवाई की चेतावनी दी.

संगीत सोम पर हमला बोलते हुए रालोद के रोहित अग्रवाल ने कहा, "रालोद-भाजपा के गठबंधन से पश्चिमी यूपी में बीजेपी बहुत मजबूत हो गई थी. लेकिन कुछ लोगों ने मुजफ्फरनगर में जयचंद जैसा काम किया है. उन्होंने अपने फायदे के लिए भाजपा का विरोध किया, जिसकी वजह से मुजफ्फरनगर हार गए. जहां-जहां रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कदम रखा, वहां पर भाजपा ने जीत हासिल की है."

 

 

संगीत सोम ने क्या बयान दिया था?

भाजपा नेता संगीत सोम ने कहा था कि 'भाजपा का रालोद से गठबंधन करने का कोई फायदा नहीं हुआ. हम जो सीटें जीत रहे थे हम वो भी हार गए. जो भी फायदा हुआ है, वो सिर्फ रालोद को हुआ है. वो अपनी दोनों सीटें जीत गए हैं.'

रोहित अग्रवाल को मिली चेतावनी

रालोद के अनुसाशन समिति के अध्यक्ष और पूर्व मंत्री धर्मवीर सिंह बालियान ने रोहित अग्रवाल के खिलाफ चेतावनी पत्र पत्र जारी किया है.  पत्र के जरिए बालियान ने कहा कि 'आप तत्काल प्रभाव से अपने व्यवहार में सुधार नहीं लाएंगे तो अनुशासन बनाये रखने के लिए पार्टी आपके खिलाफ कदम उठाएगी. सोशल मीडिया एक लोक माध्यम है जिस पर कोई भी व्यक्ति अपने विचार व्यक्त कर सकता है. लेकिन आप किसी संगठन में किसी दायित्वपूर्ण पद पर आसीन हैं. ऐसे में आपके लिए उस पद के अनुशासन का पालन करना भी अपरिहार्य है. लेकिन आप ऐसा करने में लगातार असफल रहे हैं.' पत्र के जरिए रोहित अग्रवाल को उनके बयानों के चलते पहले दी गई चेतावनी का भी जिक्र किया गया है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT