लखीमपुर खीरी केस: सुबह 10 बजे क्राइम ब्रांच के सामने पेश नहीं हुए मंत्री के बेटे आशीष

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में हुई हिंसा में 8 लोगों की मौत का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचने के बाद पुलिस प्रशासन एक्टिव मोड में आता नजर आ रहा है. हालांकि अभी इस कांड में आरोपी आशीष मिश्रा को लेकर पुलिस के हाथ कुछ विशेष सफलता नहीं लगी है. आपको बता दें कि आशीष मिश्रा को शुक्रवार सुबह 10 बजे क्राइम ब्रांच के दफ्तर में पेश होने के लिए नोटिस जारी की गई थी, लेकिन वह अबतक पेश नहीं हुए हैं. पुलिस ने दावा किया है कि आशीष मिश्रा की तलाश जारी है.

आपको बता दें कि इस कांड की विवेचना के लिए डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल के निगरानी में मॉनिटरिंग कमेटी बनाई गई है. यह कमेटी तिकुनिया कांड में चल रही जांच पर नजर रखेगी. इससे पहले आशीष मिश्रा को लखीमपुर खीरी केस में नोटिस जारी की गई थी. यह नोटिस शहर में शाहपुरा कोठी और गांव बनवारीपुर स्थित मकान पर चिपकाई गई. दो गवाहों के सामने नोटिस चस्पा कर आशीष को आज यानी 8 अक्टूबर को कमेटी के सामने पेश होकर अपना पक्ष रखने को कहा गया था.

पुलिस का दावा, आशीष मिश्रा की तलाश जारी

यूपी पुलिस ने अब दावा किया है कि लखीमपुर खीरी कांड में अब उन्हें आरोपी आशीष मिश्रा की तलाश है. यूपी तक के साथ खास बातचीत मे आईजी रेंज लखनऊ लक्ष्मी सिंह ने इस बात की पुष्टि की है. उन्होंने बताया है कि आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी के लिए टीमें कोशिश कर रही हैं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

यूपी पुलिस ने पूरे मामले की विवेचना के लिए लोगों से इस केस से जुड़े वायरल वीडियो समेत अन्य तरह की सूचना भी मांगी है.

पुलिस ने एक बयान जारी कर बताया है कि लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में दर्ज इस केस में अब तक की विवेचना से 1 नामजद आरोपी के अतिरिक्त अज्ञात आरोपियों में 6 के नाम प्रकाश में आए हैं, जिनमें से 3 आरोपियों की मौके पर ही मौत हो गई. पुलिस ने बताया है कि बाकी आरोपियों में से 2 (लवकुश और आशीष पांडे) को 7 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया गया.

आपको बता दें कि लखीमपुर खीरी कांड में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के बेटे आशीष और अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं 147 (उपद्रव), 148 (घातक अस्त्र का प्रयोग), 149 (भीड़ हिंसा), 279 (सार्वजनिक स्थल पर वाहन से मानव जीवन के लिए संकट पैदा करना), 338 (दूसरों के जीवन के लिए संकट पैदा करना), 304 ए (किसी की असावधानी से किसी की मौत होना), 302 (हत्या) और 120 बी (साजिश रचने) के तहत मामला दर्ज किया गया है.

ADVERTISEMENT

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में 3 अक्टूबर को हिंसा हुई थी, जिसमें 8 लोगों की मौत हुई. किसान संयुक्त मोर्चा ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा के काफिले ने किसानों को रौंद दिया, हालांकि केंद्रीय मंत्री टेनी और आशीष मिश्रा, दोनों ने ही अबतक सारे आरोपों का खंडन किया है. आशीष मिश्रा का दावा है कि घटना के वक्त वह काफिले की गाड़ियों में मौजूद नहीं थे.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT