कौशांबी: बंद कमरे में मिला महिला सिपाही का शव, हत्या या आत्महत्या में उलझी मौत की गुत्थी

कौशांबी में बंद कमरे में फांसी के फंदे पर महिला सिपाही का शव लटकता मिला.
कौशांबी में बंद कमरे में फांसी के फंदे पर महिला सिपाही का शव लटकता मिला.फोटो: अखिलेश कुमार, यूपी तक

यूपी के कौशांबी जिले में उस समय हड़कंप मच गया, जब एक महिला सिपाही का बंद कमरे में फांसी के फंदे पर शव लटकता मिला. महिला सिपाही परिजनों का फोन नहीं उठा रही थी. इस पर परिजनों ने कड़ा धाम कोतवाली पुलिस को सूचना दी.

मौके पर पहुंची पुलिस ने अंदर झांककर देखा तो महिला सिपाही का फांसी के फंदे पर लटकता शव मिला. दरवाजा तोड़ने के बाद शव को फंदे से नीचे उतारा गया. इसके बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा दिया गया. महिला सिपाही के कथित तौर पर आत्महत्या करने की वजह अभी तक पता नहीं चल पाई है. पुलिस इस बात को लेकर जांच में जुटी है कि महिला ने आत्महत्या की है या उसकी हत्या की गई है. वहीं महिला सिपाही की मौत से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है.

पुलिस अधीक्षक (एसपी) हेमराज मीणा ने बताया कि कानपुर के बर्रा फेस-2 निवासी रुचि सचान 2019 बैच की सिपाही थी और वह जिले के कड़ा धाम थाने में तैनात थी. उन्होंने बताया कि वह थाना क्षेत्र के देवीगंज कस्बे में किराए के कमरे में रहती थी और रविवार को उसकी ड्यूटी थाना क्षेत्र के मां शीतला मंदिर कड़ा धाम में लगी थी लेकिन वह ड्यूटी पर नहीं गई थी.

एसपी ने बताया कि रविवार की शाम को महिला सिपाही के पिता का फोन थानाध्यक्ष के पास आया कि वह फोन नहीं उठा रही है। इस पर थानाध्यक्ष मौके पर पहुंचे तो कमरा अंदर से बंद था और उन्होंने कमरे की खिड़की से झांक कर देखा गया तो रुचि सचान (25) कमरे में लगे पंखे के सहारे फंदे से झूलती नजर आई.

उन्होंने बताया कि थानाध्यक्ष ने महिला सिपाही के परिजनों को सूचना दी और देर रात में परिजनों के आने पर दरवाजा तोड़कर रुचि का शव फांसी के फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया.

एसपी ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है लेकिन अभी आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है. सिपाही रुचि का अभी विवाह नहीं हुआ था.

कौशांबी में बंद कमरे में फांसी के फंदे पर महिला सिपाही का शव लटकता मिला.
कौशांबी: जिस युवक को कब्र में दफनाया गया, वह जिंदा लौट आया, जानें हैरान कर देने वाला मामला

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in