गजब! कॉन्स्टेबल भर्ती की परीक्षा कराने के लिए UP पुलिस को ही ढूंढे नहीं मिल रही कोई एजेंसी

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश में होने वाली विभिन्न विभागों की भर्ती परीक्षा में पेपर लीक, सॉल्वर गैंग का खौफ ऐसा है कि अब पुलिस को ही ऑनलाइन परीक्षा कराने वाली एजेंसी ढूंढे नहीं मिल रही है.

उत्तर प्रदेश पुलिस में होने वाली कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा की ऑनलाइन परीक्षा कराने के लिए जिस एजेंसी को टेंडर मिला था, अब वो एजेंसी काम नहीं करना चाहती. भर्ती बोर्ड अब नए सिरे से दोबारा टेंडरिंग करा कर एजेंसी चुनने का काम करेगा.

अयोध्या के गोसाईगंज कस्बे से लखनऊ आकर पुलिस भर्ती की तैयारी कर रहे शशांक मिश्र अपने किसान पिता के सपनों को पूरा करना चाहते हैं. दो भाई और एक बहन में सबसे छोटा शशांक यूपी पुलिस में भर्ती होना चाहते हैं.

सुबह से लेकर शाम तक फिजिकल की प्रैक्टिस और रिटर्न की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन घंटों की तैयारी रोजाना घंटों की पढ़ाई और सालों तक रोजाना घंटों की पढ़ाई के बावजूद शशांक को डर लगता है कि कहीं पेपर लीक कराने वाला गैंग या सॉल्वर गैंग उसकी मेहनत पर पानी ना फेर दे.

कुछ ऐसा ही डर यूपी पुलिस में भर्ती होने वाली सोनाली को भी सताता है. दो भाईयों के बीच अकेली बहन सोनाली के पिता प्राइवेट नौकरी करते हैं. सोनाली कहती हैं कि प्राइवेट कंपनी कभी भी निकाल देती है. हाल ही में पापा को नौकरी से हटाया गया तो घर में समस्या खड़ी हो गई.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

सरकारी नौकरी में कम से कम नौकरी जाने का तो खतरा नहीं रहता और अगर वह नौकरी यूपी पुलिस की हो तो समाज में इज्जत भी रहती है. इसी वजह से सोनाली भी उत्तर प्रदेश पुलिस की भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रही हैं, लेकिन वह हाथ जोड़कर भगवान से प्रार्थना करती हैं कि पेपर लीक कराने वाले गैंग से बचा लो, अपनी मेहनत के दम पर परीक्षा तो हम पास कर लेंगे.

लखनऊ के रहने वाले आशीष कुमार ने तो साल 2021 में सब इंस्पेक्टर की भर्ती परीक्षा भी दी थी. पिता यूपी पुलिस से रिटायर हुए हैं तो आशीष भी चाहता है कि वह भी पुलिस में भर्ती हो जाए. आशीष ने 2021 की सब इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा भी दी थी, लेकिन सॉल्वर गैंग और पेपर लीक कराने वाले गैंग का ऐसा ‘बोलबाला’ हुआ कि अब आशीष यूपी पुलिस में सिपाही भर्ती परीक्षा की तैयारी में जुटा है.

बीते 2 सालों से उत्तर प्रदेश पुलिस की भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रहा आशीष हो अयोध्या से आया शशांक मिश्र हो या सोनाली ऐसे लाखों बच्चे परीक्षा पास करने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं, लेकिन इनके मेहनत पर पेपर लीक कराने वाले और सॉल्वर गैंग की बुरी नजर पानी फेर देती है.

ADVERTISEMENT

बता दें कि उत्तर प्रदेश में टीईटी भर्ती परीक्षा हो, सीटेट की परीक्षा हो या फिर उत्तर प्रदेश पुलिस की भर्ती परीक्षा. कभी पेपर लीक के चलते परीक्षा कैंसिल हुई तो कभी सॉल्वर गैंग की सेंधमारी ने पूरी परीक्षा प्रक्रिया पर ही सवाल खड़े कर दिए और मामला कोर्ट में अटक कर रह गया.

2 साल पहले 2021 में यूपी पुलिस में 9534 सब इंस्पेक्टर की भर्ती निकली. बीते साल 12 नवंबर से 2 दिसंबर तक लखनऊ से लेकर तमाम शहरों में ऑनलाइन भर्ती परीक्षा हुई. ऑनलाइन भर्ती परीक्षा में सॉल्वर गैंग और पेपर लीक कराने वाले गैंग का ‘बोलबाला’ रहा.

इस मामले में आगरा, मथुरा, गोरखपुर, लखनऊ, कानपुर से लेकर गाजियाबाद तक 70 से अधिक FIR लिखी गईं. 200 से अधिक सॉल्वर गैंग के लोग गिरफ्तार कर जेल भेजे गए. अब एक बार फिर उत्तर प्रदेश पुलिस कॉन्स्टेबल की भर्ती के लिए ऑनलाइन परीक्षा कराने की तैयारी में है, लेकिन भर्ती बोर्ड की इस तैयारी में ऑनलाइन परीक्षा कराने वाली एजेंसी रोड़ा बन गई है.

लगभग 6 महीने पहले भर्ती बोर्ड ने 36000 सिपाही भर्ती के लिए ऑनलाइन परीक्षा कराने वाली जिस निजी एजेंसी को चुना था, अब यह काम नहीं करना चाहती.

ADVERTISEMENT

वहीं, इस संबंध में हमने उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड के अध्यक्ष डीजी आरके विश्वकर्मा से सवाल किया तो कैमरे पर तो नहीं लेकिन उन्होंने दलील दी कि हम जल्द ई-टेंडरिंग के जरिए देशभर की एजेंसियों को आमंत्रित करेंगे और उम्मीद है कि कोई ना कोई एजेंसी उत्तर प्रदेश पुलिस की ऑनलाइन भर्ती परीक्षा कराने के लिए आगे आएगी.

गाजीपुर: मुख्तार अंसारी को आज भी पेश नहीं कर पाई यूपी पुलिस, कोर्ट ने अब दिया ये आदेश

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT