एक सिपाही से डर गया माफिया डॉन! जानिए कौन है वो पुलिसकर्मी जिससे मुख्तार ने जताई हत्या की आशंका

संतोष शर्मा

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Uttar Pradesh News : बांदा जेल में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को यू तो यूपी आने के बाद से ही जान का खतरा सताने लगा था. लेकिन अब मुख्तार अंसारी को एक बंदी रक्षक से जान का खतरा महसूस होने लगा है. कौन है वह बंदी रक्षक जिसका नाम लेकर मुख्तार अंसारी ने कोर्ट के सामने हत्या की आशंका जताई थी.

मुख्तार अंसारी ने जताई  जेल में हत्या की आशंका

अप्रैल 2021 में पंजाब की रूपनगर जेल से बांदा जेल लाए गए मुख्तार अंसारी की सुरक्षा में जेल प्रशासन ने सीसीटीवी कैमरा और बंदी रक्षकों की लगातार अदला बदली कर तैनाती की व्यवस्था लागू की है. बॉडी वॉर्न कैमरे के साथ सुरक्षा में लगाए गए बंदीरक्षकों के बावजूद मुख्तार अंसारी को अब जान का खतरा नजर आने लगा है. मऊ के गैंगस्टर केस और बाराबंकी के एंबुलेंस केस में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान मुख्तार अंसारी ने हाल ही में बांदा जेल तबादले के बाद तैनात किए गए बंदी रक्षक अजीत गौतम का नाम लेकर हत्या की आशंका जताई है.

कौन है बंदीरक्षक अजीत गौतम

दरअसल, जिस बंदी रक्षक अजीत गौतम का नाम लेकर मुख्तार अंसारी हत्या की आशंका जाता रहा है, वह सोनभद्र जेल से तबादले के बाद बंदा आया है. सोनभद्र जेल में पश्चिम उत्तर प्रदेश का गैंगस्टर सुंदर भाटी बंद है. अप्रैल महीने में अतीक अहमद और अशरफ की हत्या करने वाले शूटर सनी सिंह का सुंदर भाटी से कनेक्शन भी बताया गया था. कहा गया कि सनी और सुंदर भाटी हमीरपुर जेल में साथ में बंद थे. लगभग डेढ़ साल सोनभद्र जेल में रहने के दौरान अजीत गौतम हाई सिक्योरिटी बैरक में बंद सुंदर भाटी की बैरक का भी प्रभारी रहा, सुरक्षा में तैनात रहा.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

इसलिए दहशत में है माफिया

मुख्तार को शक है कि डेढ़ साल की तैनाती के दौरान अजीत गौतम सुंदर भाटी का बेहद करीबी हो गया था और एक साजिश के तहत ही सुंदर भाटी के करीबी बंदी रक्षक अजीत गौतम को बांदा भेजा गया है. वहीं दूसरी तरफ सोनभद्र जेल से पहले अजीत गौतम कासगंज जेल में तैनात था. जहां पर आजमगढ़ का गैंगस्टर और बसपा विधायक सर्वेश सिंह सिप्पू की हत्या का अभियुक्त कुंटू सिंह बंद है. कुंटु सिंह से मुख्तार अंसारी की अदावत जग जाहिर है. लखनऊ के विभूति खंड में हुई मुख़्तार के करीबी अजीत सिंह की हत्या में भी कुंटु सिंह का ही नाम आया था, जैसे कुंटू के करीबी शूटर गिरधारी ने अंजाम दिया था.

सुंदर भाटी गैंग का कनेक्शन?

यानी बीते लगभग 4 साल से अजीत गौतम मुख्तार अंसारी के विरोधी गैंगस्टर पिंटू सिंह और सुंदर भाटी की जेल में तैनात रहा है. साल 2018 में बागपत जेल में हुई मुन्ना बजरंगी की हत्या में भी जेल के बंदी रक्षकों की भूमिका संदिग्ध मिली थी. ऐसे में मुख्तार अंसारी को शक है की उत्तर प्रदेश से माफिया के सफाए के इस दौर में अतीक अहमद, अशरफ, संजीव जीवा महेश्वरी, खान मुबारक, अनिल दुजाना के मरने के बाद अब उसके हत्या की साजिश रची जा रही है.

ADVERTISEMENT

क्या कहती है पुलिस

हालांकि मुख्तार अंसारी की इस आशंका पर डीजी जेल एस एन साबत का कहना है कि, ‘मुख्तार अंसारी की सुरक्षा मे बैरक में CCTV के साथ बॉडी वॉर्न कमरों के साथ बंदी रक्षक लगाए गए हैं. पूरे प्रदेश से अदला-बदली कर बन्दी रक्षकों को बांदा जेल सुरक्षा में लगाया जाता है, जो भी बंदी रक्षक मुख्तार अंसारी की बैरक में लगाए जाते हैं उन पर भी हमारी नजर होती है. मुख्तार अंसारी हमेशा चर्चा में रहना चाहता है जिसकी वजह से वह ऐसे आरोप लगा रहा है.’

ADVERTISEMENT

    Main news
    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT