window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

लखनऊ, बनारस, कानपुर या आगरा, कहां की चाट है सबसे खास? इन जगहों पर खाइए और स्वाद में खो जाइए

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश जहां अपने धार्मिक स्थलों के लिए जाना जाता है तो वहीं यूपी अपने पकवानों के लिए भी पहचाना जाता है. दिल्ली-मुंबई के स्ट्रीट फूड का नाम तो आपने सुना ही होगा. मगर आज हम आपको उत्तर प्रदेश के कुछ ऐसे स्ट्रीट फूड के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे खा कर आप भी कहेंगे..’वाह क्या स्वाद है.’  

दरअसल यूपी की चाट का अलग ही मजा है. यहां लखनऊ (Lucknow), बनारस (Varanasi), कानपुर (Kanpur), और आगरा (Agra) की चाट पूरे प्रदेश में फेमस है. आज हम आपको यूपी की कुछ ऐसी चाटों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे आप भी एक बार जरूर खाना चाहेंगे.

लखनऊ की चाट है अपने आप में खास

यूपी की राजधानी लखनऊ की चाट में इतिहास की महक भी है तो वहीं परंपरागत जायकों का स्वाद भी है. लखनऊ के तुंडे कबाब तो पूरे यूपी में प्रसिद्ध हैं. लखनऊ की सड़कों पर चलते हुए यहां के पानी के बताशें और आलू की टिक्की की महक आपको अपनी तरफ जरूर खिचेंगी.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

कानपुर में मशहूर हैं ये पकवान 

यूपी का कानपुर हर दिन किसी ना किसी वजह से चर्चाओं में रहता ही है. मगर आप शायद ही कानपुर के स्वाद की विरासत के बारे में जानते होंगे. यहां का खाना खजाना इतना स्वादपूर्ण है कि आप अगर कानपुर आए तो एक बार जरूर इन व्यंजनों का स्वाद लें.    

कानपुर की लुची-सब्जी, शामी कबाब, सुल्तानी दाल और बिरयानी का हर कोई दीवाना है. यहां का बंद मस्का भी प्रसिद्ध है. यहां की चाट की खास बात ये है कि इसमें मसालों की तड़क भी है तो वहीं मिठास भी है. कानपुर के ठग्गू के लड्डू तो पूरे देश में फेमस हैं.

ADVERTISEMENT

आगरा है मिठास और तीखेपन की मिसाल

आगरा पूरे विश्व में अपने ताजमहल और लाल किले के लिए प्रसिद्ध है. यहां हर साल देश-विदेश से लाखों लोग आते हैं. मगर ताजमहल अपने खान-पान के लिए भी काफी फेसम है. यहां की चाट पर्यटकों को अपनी तरफ खींचता है. 

आगरा का बेड़ई और जलेबी एक पारंपरिक नाश्ता है. यहां मटर कचौरी भी प्रसिद्ध है. स्थानीय लोग और पर्यटक भी इसके बड़े दीवाने हैं. इसी के साथ जो भी आगरा आता है, वह यहां के समोसे, राज कचौरी, दही-भल्ला और गोलगप्पे खाने से खुद को रोक नहीं पाता है. 

ADVERTISEMENT

वाराणसी-  आध्यात्मिक के साथ परंपरागत स्वाद 

वाराणसी यानी काशी को विश्व का सबसे प्राचीन शहर माना जाता है. बाबा विश्वनाथ की यह धरती में चाट का खजाना है. यहां की चाट में परंपरागत और आधुनिक स्वाद दोनों है. बनारस का नाम आते ही सबसे पहले जुबान पर बनारसी पान, बनारसी ठंडाई आती है. मगर बनारस में सिर्फ यहीं प्रसिद्ध नहीं है. 

बनारस की टमाटर चाट, बाटी चोखा, छैना दही बड़ा और कचौड़ी सब्जी भी खाने में शानदार है. यहां आने वाले हजारों-लाख लोग, यहां आकर यहां की चाट और पकवान के दीवाने हो जाते हैं. 

निष्कर्ष

उत्तर प्रदेश जहां पर्यटन के लिए शानदार है तो वहीं खाने-पीने के शौकीनों के लिए भी गजब की जगह है. आप का जैसा स्वाद हो, यहां आपको वैसा ही पकवान खाने को मिल जाएगा. यहां मसाला प्रेमियों और मिठाई प्रेमियों के लिए खाने के सैकड़ों पकवान और चाट हैं. यहां के खाना खजाना में आपको क्षेत्रीय विविधिता भी देखने को मिलेगी. आप जब भी यूपी के इन पकवानों का स्वाद लेंगे तो आप सिर्फ यूपी के प्रसिद्ध पकवान ही नहीं खा रहे होंगे. बल्कि आप यहां के खाने-पीने के साथ यहां की समृद्ध संस्कृति और इतिहास को भी महसूस कर रहे होंगे.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT