window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

UP Tak के इंटरव्यू के 72 घंटे बाद मायावती ने इमरान मसूद को पार्टी से निकाला, इनसाइड स्टोरी

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Iman Masood News: क्या यूपी Tak से बातचीत में पश्चिमी यूपी के कद्दावर नेता इमरान मसूद की ओर से कही गईं बातें उन्हें भारी पड़ गईं? ये हम खुद नहीं कह रहे, बल्कि बहुजन समाज पार्टी और उनकी सुप्रीमो मायावती का फैसला इसी ओर इशारा करता नजर आ रहा है. असल में मायावती ने फायर ब्रैंड मुस्लिम नेता इमरान मसूद को पार्टी से निकाल दिया है. इमरान मसूद ने अभी शनिवार को ही यूपी Tak से इंटरव्यू में कई ऐसी बातें साझा कर दी थीं, जो लग रहा है कि अब उन्हें भारी पड़ गईं. इस इंटरव्यू को अभी 72 घंटे भी नहीं बीते थे कि मंगलवार को सहारनपुर के बीएसपी जिलाध्यक्ष जनेश्वर प्रसाद के हवाले से एक प्रेसनोट जारी कर इमरान को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया.

आखिर इंटरव्यू में इमरान मसूद ने ऐसा क्या कह दिया, जो मायावती को खटक गया?

यूपी Tak को दिया गया इमरान मसूद का इंटरव्यू सियासी गलियारे में जबर्दस्त वायरल हुआ है. इस इंटरव्यू में इमरान मसूद ने ऐसी कुछ बातें कहीं, जिनके बारे में माना जा रहा है कि वे मायावती को नागवार गुजरीं हैं. आइए हम आपको सिलसिलेवार इसकी जानकारी देते हैं…

  1.  BSP के लिए एसेट हूं लाइबिलिटी नहीं वाली बात पड़ी भारी: पिछले दिनों बीएसपी ने एक बैठक बुलाई और पश्चिमी यूपी के प्रभारी इमरान मसूद को नहीं बुलाया? इस सवाल के जवाब में इमरान मसूद ने कहा कि उन्हें बीसएपी ने जो दायित्व दिया पूरा किया. 2022 के चुनाव से पहले न जाने क्या हुआ कि बहनजी (मायावती) ने सहारनपुर लोकसभा देखने को कह दिया. इमरान ने आगे कहा कि बहनजी को लगा कि नहीं बुलाना चाहिए, तो उन्होंने नहीं बुलाया, शायद मेरी उपयोगिता नहीं रही होगी. इमरान मसूद की साफगोई शायद उनपर भारी पड़ी, शायद इसे तंज समझा गया.
  2. मायावती पैसे देकर टिकट देती हैं? इमरान मसूद से यूपी Tak ने पूछा कि, ‘बसपा में आने से पहले जब आप कांग्रेस में थे, तो आपका बयान चर्चा में रहा कि मायावती की पार्टी लुटेरों की पार्टी है, पैसे लेकर टिकट देते हैं? अब क्या बदल गया?’ इस सवाल के जवाब में इमरान मसूद ने हंसते हुए गोलमोल जवाब दिया. इमरान ने कहा कि बहुत सारी चीजें ऐसी हैं, जिन्हें पर्दे में ही रहने दिया जाए तो बेहतर होगा. अब माना जा रहा है कि यह गोलमोल जवाब मायावती को शायद पसंद नहीं आया.
  3. राहुल-प्रियंका की तारीफ नहीं आई रास: यूपी Tak को दिए गए इंटरव्यू में इमरान मसूद ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की खूब तारीफ की. इमरान ने राहुल गांधी को जहां नेक दिल इंसान बनाया, तो यह भी दावा किया कि प्रियंका गांधी से उनके रिश्ते अच्छे हैं. अब ऐसा माना जा रहा है कि गांधी परिवार से नजदीकी दिखाना बसपा के शीर्ष नेतृत्व को कुछ खास रास नहीं आया.

बसपा ने आधिकारिक तौर पर क्या वजह बताई?

हालांकि इन बातों से इतर बसपा ने इमरान मसूद को बाहर निकालने की अपनी वजहें भी गिनाई हैं. बसपा की तरफ से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है कि इमरान मसूद को अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण निष्कासित किया गया है. इसके अलावा यह भी कहा गया है कि इमरान मसूद ने नगर निकाय चुनाव में अपने परिवार के लिए मेयर का टिकट पाने के लिए दबाव बनाया था. ऐसा कुछ और बातें कहीं गईं हैं, जिन्हें आप यहां नीचे दिए गए लेटर में पढ़ सकते हैं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

(इमरान मसूद से बातचीत का पूरा इंटरव्यू यहां नीचे देखा जा सकता है.)

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT